इलाहाबाद: बायोमैट्रिक अटेंडेंस रखेगी छात्रों पर नजर

0

इलाहाबाद। इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में पांच साल पहले ही 75 प्रतिशत उपस्थिति अनिवार्य करने की योजना तैयार की गई थी, लेकिन इस योजना के लागू होने में कई व्यवधान सामने आ रहे थे, उनमें से एक था कक्षाओं में छात्रों की अधिक संख्या। नए कुलपति के आने के साथ ही 75 प्रतिशत उपस्थिति अनिवार्य करने की योजना पर काम शुरू हो गया। इसमें आने वाले हर व्यवधान को दूर करने की कोशिश की जा रही है।

बायोमैट्रिक अटेंडेंस

बायोमैट्रिक अटेंडेंस से बाहरी लोगों पर लगेगी लगाम

75 प्रतिशत उपस्थिति अनिवार्य करने के साथ ही छात्रों की बॉयोमेट्रिक अटेंडेंस की शुरूआत भी हो गई है। बायोमेट्रिक अटेंडेंस से बाहरी लोगों के आने पर भी प्रतिबंध लगेगा। प्रयोग के तौर पर सांइस फैकल्टी के बॉटनी डिपार्टमेंट में बीएससी प्रथम वर्ष के छात्रों के लिए यह सुविधा शुरू की गयी है। यदि यह प्रयोग यहां सफल रहा तो पूरे यूनिवर्सिटी में इसे लागू कर दिया जाएगा।

वनस्पति विभाग में लगी बायोमेट्रिक मशीन
यूनिवर्सिटी के अधिकतर कक्षाओं में छात्रों की संख्या 100 से अधिक है, जिसकी वजह से अटेंडेंस लेने में बहुत अधिक समय लग जाता था। इसलिए कुछ कक्षाओं में अटेंडेस ली ही नही जाती थी। फिलहाल बीएससी प्रथम वर्ष के छात्र-छात्राओं की बॉयोमेट्रिक अटेंडेंस लगेगी। बॉयोमेट्रिक मशीन को प्रथम वर्ष की कक्षा और प्रयोगशाला के बीच में लगाया गया है ऐसे में छात्रों को कक्षा और प्रयोगशाला जाने से पहले उपस्थिति दर्ज करानी होगी। इस सुविधा से छात्रों में भी गंभीरत आएगी और पढ़ाई में भी रुचि लेंगे।

सभी जानकारियां मिलेंगी
विभागाध्यक्ष प्रो. अनुपम दीक्षित से मिली जानकारी के मुताबिक मशीन में छात्रों के नाम नामांकन संख्या मोबाइल नम्बर आदि फीड कर दिया ग हैं। प्रोफेसर अनुपम का कहना है कि बायोमैट्रिक अटेंडेंस की सहायता से छात्र-छात्राओं को सभी जानकारियां एसएमएस से मिल जाएंगी। इसके अलावा कुछ अन्य चीजों पर काम चल रहा है। जल्द ही यूनिवर्सिटी में कुछ और प्रयोग किए जांएंगे।

loading...
शेयर करें