अक्षय तृतीया पर मोदी सरकार ने ईपीएफओ के रेट ऑफ इंट्रेस्ट को दी मंजूरी

0

नई दिल्‍ली। केंद्र की मोदी सरकार ने पीएफ को लेकर गुरुवार को एक खुशखबरी दी थी।  वहीं पीएफ 2016-17 के लिए ईपीएफओ के रेट ऑफ इंट्रेस्‍ट 8.65 फीसदी पर केंद्र सरकार ने अपनी मंजूरी दे दी है। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) के सदस्यों के खाते में यह ब्याज बहुत जल्‍द डाला जाएगा।

ईपीएफओ के रेट ऑफ इंट्रेस्‍ट

ईपीएफओ के रेट ऑफ इंट्रेस्‍ट को लेकर दिए गए निर्देश

ईपीएफओ ने अपने फील्ड कार्यालयों से अंशधारकों के खातों में 8.65 फीसदी ब्याज डालने को कहा है। केंद्रीय श्रम मंत्रालय ने ईपीएफओ को इस बारे में सूचित किया है कि केंद्र सरकार ने इस ब्याज दर को मंजूरी दे दी हैं।

श्रम मंत्री ने पहले ही दी थी मंजूरी

इससे पहले केंद्रीय श्रम मंत्री बंडारू दत्तात्रेय ने कहा था कि वित्त मंत्रालय ने 2016-17 के लिए ईपीएफ जमाओं पर 8.65 फीसदी ब्याज को मंजूर कर लिया है। औपचारिक क्षेत्र के कर्मचारियों में यह आशंका थी कि उन्हें ईपीएफओ न्यासियों द्वारा पिछले साल दिसंबर में मंजूर 8.65 फीसदी से कम का ब्याज मिलेगा।

वित्‍त मंत्रालय की मंजूरी जरूरी

न्यासी बोर्ड द्वारा ब्याज दर पर जो फैसला लिया जाता है उस पर वित्त मंत्रालय की मंजूरी लेने की जरूरत होती है। वित्त मंत्रालय मंजूरी देते समय यह देखता है कि क्या ईपीएफओ न्यासियों द्वारा मंजूर दर अपनी आय से देने में सक्षम है या नहीं। वित्त मंत्रालय, सीबीटी द्वारा मंजूर दर को अनुमोदित करने के बाद संबंधित वित्त वर्ष के लिए इसे ईपीएफओ सदस्यों के खाते में डाल दिया जाएगा।

loading...
शेयर करें