ईपीएफ: पैसा निकालने पर नहीं लगेगा टैक्स

0

नई दिल्ली। वित्‍त मंत्री अरुण जेटली ने आम बजट में ईपीएफ और एनपीएस की निकासी पर बयान दिया था। वहीं सोमवार को सरकार को इस पर अपनी सफाई देनी पड़ी है। सरकार के राजस्‍व सचिव हसमुख अधिया ने साफ कहा है कि  PPF निकासी को टैक्स से पूरी तरह अलग रखा गया है। जबकि 15,000 हजार महीना सैलरी वालों तक के EPF खाते की निकासी पर छूट रहेगी।

ईपीएफ

ईपीएफ: नए कर्मचारियों पर मेहरबान हुई सरकार

आम बजट 2016-17 में नए कर्मचारियों के लिए सरकार की ओर से बड़ा तोहफा दिया गया है। इसमें वित्तमंत्री अरुण जेटली ने ऐलान किया है कि पीएफ में नए कर्मचारियों के लिए पहले 3 साल तक हिस्सा सरकार की ओर से दिया जाएगा।

ईपीएफओ को दिया जा रहा है फंड

इसके लिए ईपीएफओ के लिए 1000 करोड़ रुपए का फंड भी दिया जा रहा है। नए कर्मयारियों के लिए यह जबरदस्त तोहफा माना जा रहा है। इससे पहले ईपीएफओ ने पैसा निकालने के अपने नियमों को भी कड़ा किया है। नए नियम काफी सख्त बनाए गए हैं।

57 साल में निकाल पाएंगे पैसा

नए नियम के अनुसार अब 54 साल की उम्र के बाद कर्मचारियों को पीएफ से पैसा निकालने के लिए 57 साल की उम्र तक इंतचार करना होगा। सरकार का कहना है कि पहले तो रिटायरमेंट की उम्र कम होती थी लेकिन अब ऐसा नहीं है. इसीलिए यह नियम बदला गया है।

ईपीएफ पर टैक्स का खेल

वित्तमंत्री अरुण जेटली ने सोमवार को बजट मं ऐलान किया था कि ईपीएफ़ निकालते समय अब नौकरीपेशा व्यक्ति की अंशदान राशि पहले की तरह टैक्स के दायरे से बाहर नहीं होगी। सिर्फ़ 40 प्रतिशत राशि पर ही टैक्स छूट मिलेगी, शेष 60 प्रतिशत पर टैक्स लगेगा। 1 अप्रैल 2016 के बाद ईपीएफ़ में कर्मचारी के अंशदान की कुल राशि का 60 प्रतिशत टैक्स के दायरे में आएगा। इसे ऐसे समझें। किसी कर्मचारी का महीने का वेतन 15 हज़ार रुपए या इससे कम है तो उस पर ये शर्तें लागू नहीं होंगी। लेकिन अधिक तनख्वाह वाले लोगों पर बोझ बढ़ेगा। आम बजट में मान्यताप्राप्त भविष्यनिधि में कंपनी के वार्षिक अंशदान की अधिकतम सीमा डेढ़ लाख रुपए तय कर दी गई है।

सिर्फ साठ फीसदी हिस्‍से पर लगेगा टैक्‍स

हसमुख अधिया ने बताया कि ईपीएफ के साठ फीसदी हिस्‍से पर मिलने वाले ब्‍याज को निकालने पर ही टैक्‍स देना पड़ेगा। यह नियम एक अप्रैल 2016 से लागू होगा।

केजरीवाल ने किया ट्वीट

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सुबह ट्वीट करके कहा था कि इस बारे में उन्होंने कई लोगों से बात की है, और सभी इस फैसले को लेकर नाराज हैं।

ऑनलाइन पीटिशन वायरल

रिटायरमेंट टैक्स के खिलाफ सोशल मीडिया पर एक ऑनलाइन पीटिशन वायरल हो गई है, जिसपर करीब 3,000 लोगों ने अपना समर्थन जताया है। बजट के एक दिन बाद डाली गई इस पीटिशन में EPF पर टैक्स को तुरंत वापस लेने की मांग की गई है। गुड़गांव के फाइनेंस प्रफेशनल वैभव अग्रवाल ने इसकी शुरआत की, जिसका सोशल मीडिया पर जमकर समर्थन किया गया।

loading...
शेयर करें