पुलिस की मदद से 28 साल बाद मिले दो बिछड़े सगे भाई

0

उत्तराखंड पुलिसदेहरादून। करीब ढाई से तीन दशक बाद दो सगे बिछड़े भाईयों का मिलना टीवी में तो अक्सर देखने को मिलता है। उत्तराखंड पुलिस ने रियल लाइफ में भी इस बात को सिद्ध करके दिखा दिया है। जिनको ईश्वर ने अलग किया उनके लिए पुलिस भगवान का रूप बनकर आ गई। मामला टिहरी जिले के घनसाली तहसील का है। जहां के रहने वाले बलवीर सिंह नेगी ने तीन दशक पहले वहां नौकरी के दौरान कोलाकात्ता में शादी की थी। लेकिन किसी कारण वह छोटे बेटे, बेटी और पत्नी को वहीं छोड़ कर बड़े बेटे के साथ पहाड़ वापस आ गए। तभी से बलबीर के परिवार को उनकी तलाश थी।

उत्तराखंड पुलिस ने बताया छोड़ा था परिवार

उत्तराखंड पुलिस के एसओ घनसाली रवि सैनी ने बताया कि बलबीर सिंह नेगी 1970-80 के समय नौकरी करने घनसाली से कोलकात्ता गए थे। इस दौरान उन्होंने वहीं बंगाली मूल की एक युवती से शादी कर दी। शादी के बाद बलवीर सिंह के तीन बच्चे भी हो गए। किसी कारण बलबीर अपने सबसे बड़े बेटे भगवान सिंह को अपने साथ बिना बताए वापस गढ़वाल ले आए। लेकिन अपने पत्नी और बेटी समेत 9 महीने के छोटे बेटे को कोलकात्ता में छोड़ दिया। इस दौरान बलवीर की पत्नी ने उन्हें ढूंडने की कोशिश की लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिली।

इंटरनेट के जरिए किया पुलिस से संपर्क

इधर बलबीर ने पिछले 28-30 सालों तक अपने बंगाली मूल की पत्नी और दो बच्चों का हाल जानने की कोशिश नहीं की। इधर बलबीर के बड़ा बेटे भगवान सिंह पढ़ लिखकर पिछले कई सालों से जर्मनी में सेफ बन गया। उधर कोलकात्ता में बलवीर की पत्नी ने अपनी बेटी की शादी करवा ली। जबकि छोटे बेटे ने कोलकात्ता में ही कारोबार शुरु कर दिया।

होश संभालने के बाद से ही बलवीर के छोटे बेटे किशन सिंह ने अपने बड़े भाई और पिता की तलाश शुरु की लेकिन उसे सफलता नहीं मिली। इसके बाद किशन ने कोलकात्ता से ही उत्तराखंड पुलिस को इंटरनेट के जरिए संपर्क किया। यहां से उसे टिहरी जिले के घनसाली थाने का पता मिला। घनसाली में पुलिस ने बलबीर का पता ढड़ा तो पता चला कि उनकी एक साल पहले ही मौत हो चुकी है।

पुलिस ने किशन सिंह को कोलकात्ता से घनसाली बुलाया। यहां इन दिनों बलवीर के बड़े बेटे भगवान सिंह भी पिता के वार्षिक श्राद्ध के लिए जर्मनी से घनसाली आए थे। इसी क्रम में एसओ घनसाली रवि सैनी ने रविवार को कोलकात्ता से आए किशन सिंह से बड़े भाई भगवान को मिला दिया।

loading...
शेयर करें