उत्तराखंड में एक और बच्चा बना गुलदार का निवाला, पूरे इलाके में दहशत का माहौल

0

नैनीताल। घर में मुंडन संस्कार चल रहा था, सभी घरवाले अपने बच्चे की मुंडन क्रिया को लेकर प्रोत्साहित थे। सभी रिश्तेदारों की धामाचौकड़ी से पूरा घर ख़ुशी की चादर ओढ़े उस आयोजत का लुफ्त उठा रहा था। तभी इस खुशनुमा पल के बीच से घर का बड़ा चिराग हिमांशु अचानक से सबकी नजरों से ओझल हो गया। जब परिजनों को हिमांशु के गौरमौजूदगी का एहसास हुआ तो पूरा घर उसकी तलास में निकल पड़ा। काफी खोजबीन के बाद घरवालों को दुखद समाचार प्राप्त हुआ कि हिमांशु गुलदार का निवाला बन चुका है। इस खबर से पूरे घर में शोक पसरा हुआ है।

guldar

ये घटना है उत्तराखंड के जिले रामगढ़ ब्लाक के सूपी गांव की है। लमिधार निवासी कक्षा छह में पढ़ने वाले हिमांशु बिष्ट पुत्र लाल सिंह के बड़े भाई के मुंडन संस्कार के दिन एकाएक हिमांशु गायब हो गया। घरवालों ने काफी देर तक उसकी तलाश की, जब उसकी कोई खबर ना आई तो पुलिस स्टेशन में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई गई।

पुलिस ने रात भर उसे जंगलों में तलाशा लकिन कुछ पता नहीं चला। सुबह जंगल में उसका अधखाया शव जंगले में बरामद कर लिया गया। सूचना मिलने पर राजस्व पुलिस और वन विबाग के कर्मी भी गांव पहुंच गए है। शव को पंचनामे के बाद पोस्टमार्टम के लिए नैनीताल भेज दिया गया है। इस घटना के बाद से पुरे इलाके में दहशत का माहौल पसरा हुआ है। ग्रामीणों ने वन विभाग से गुलदार को पकड़ने की मांग की है।

उल्लेखनीय है कि ये उत्तराखंड में ये पहला मामला नहीं है, पहले भी ऐसी कई घटनाएं हो चुकी है। फिर भी प्रशासन इन घटनाओं से सबक नहीं ले रही है।

loading...
शेयर करें