मोदी सरकार सिर्फ बंदी में विश्वास रखती है, पहले ‘नोटबंदी’ और अब ‘गोश्तबंदी’

उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री
सगीर ए ख़ाकसार

बलरामपुर। उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री डॉ एस0पी0यादव ने कहा कि वर्तमान मोदी की सरकार जुमलों की सरकार है। ये सरकार सपने बेचती है। जनता की बुनियादी समस्याओं से इसका कोई सरोकार नहीं है। सिर्फ भावनात्मक मुद्दों पर सियासत करना इनकी फितरत है। इनके पास विकास का कोई रोड मैप भी नहीं है। विकास के दावे खोखले साबित हो रहे हैं।

बलरामपुर ज़िले के पचपेड़वा कस्बे में आज एक निजी कार्यक्रम में हिस्सा लेने आये उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री ने बातचीत में कहा कि सरकार के पास नई योजनाओं का टोटा है। इसलिए यह सिर्फ बंदी में विश्वास रखती है। पहले नोट बंदी, और अब गोश्त बंदी। दुनिया कितनी आगे जा रही है और एक हम हैं जो उलजुलूल के बहस मुबाहिसों में उलझे हुए हैं,या फिर सियासी साज़िश के तहत उलझाए जा रहे हैं। क्या पहनना है और क्या खाना है।

मज़हबी आधार पर ऐसे मुद्दे उछाले जा रहे हैं ताकि अपनी नाकामियों को आसानी से छुपाया जा सके। डॉ यादव ने कहा कि सरकार को बताना चाहिए क़ि कथित स्मार्ट सिटी की क्या स्थिति है? कितने नए रोज़गार युवाओं को दिए गए?नोट बन्दी से कितना काला धन वापस आया? डॉ यादव ने कहा कि जनता को ज़्यादा दिनों तक मूर्ख नही बनाया जासकता। यह सब कुछ ज़्यादा दिन नही चलने वाला है। सबका साथ सबका विकास का नारा भी खोखला साबित हो रहा है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button