हरीश रावत सीबीआई के सामने रहे चुप, बाहर निकलने पर BJP पर बोला हमला

0

नई दिल्‍ली। उत्‍तराखंड का स्टिंग ऑपरेशन काफी चर्चा में रहा। उत्‍तराखंड के सीएम हरीश रावत मंगलवार को सीबीआई के सामने उपस्थित हुए। सीबीआई ने हरीश रावत से कई सवालों की झड़ी लगाई लेकिन रावत ने सवालों के जवाब नहीं दिए।

उत्‍तराखंड का स्टिंग ऑपरेशन

हरीश रावत का भविष्‍य तय करेगा उत्‍तराखंड का स्टिंग ऑपरेशन

इससे पहले दो बार सीबीआई के बुलाने के बावजूद रावत पेश नही हुए थे। यहां तक कि दोबारा सरकार बनने के बाद रावत सरकार ने सीबीआई जांच बंद करने भी सिफारिश की, लेकिन अदालत ने इस पर रोक लगाने से इंकार कर दिया। उत्‍तराखंड का स्टिंग ऑपरेशन सीएम हरीश रावत का राजनीतिक भविष्‍य तय करने के लिए काफी महत्‍वपूर्ण माना जा रहा है।

पूछताछ के बाद बीजेपी पर बोला हमला

अपने सामने कोई रास्ता नहीं बचने के बाद हरीश रावत मंगलवार सुबह 11 बजे सीबीआई मुख्यालय पहुंचे और चार बजे तक वहां रुके। इस दौरान जांच अधिकारियों ने उनसे स्टिंग सीडी मामले से जुड़े कई सवाल किए। रावत सवालों के ठीक जवाब नहीं दे पाए। ज्यादातर सवालों के बारे में चुप्पी साधने वाले रावत बाहर आने के बाद बीजेपी पर हमला करने से नही चूके।

रावत बोले- बीजेपी की भूमिका की हो जांच

रावत ने सीबीआई जांच के पीछे बीजेपी की भूमिका की भी जांच किए जाने की बात कही। उन्होंने कहा कि उनके और कांग्रेस के खिलाफ केंद्र में बैठी बीजेपी सरकार राजनीतिक साजिश कर रही है। इसके आधार पर रावत के खिलाफ रेगुलर एफआइआर दर्ज हो सकती है।

सूत्रों के मुताबिक पांच घंटे की पूछताछ में सीबीआई ने रावत से पूछे ये सवाल –

सीडी में वह हैं या नहीं ?

सीडी में जो आवाजें हैं, उनकी हैं या नहीं?

सीडी में जो बातें हुई हैं, उन्होंने की थी या नहीं?

क्या उन्होंने विधायकों के लिए रकम दिए जाने की पेशकश की थी?

क्या उनके किसी मंत्री ने भी विधायकों को रकम दिए जाने की पेशकश की थी?

बातचीत के दौरान जो पैसे देने की पेशकश थी वो कहां से आते?

पैसों की जगह कुछ और ऑफर की बात का मकसद क्या था?

कैमरे के अलावा कुछ और बातें हुई थी?

सीएम रावत ने मानी पत्रकार से मिलने की बात

सीएम रावत ने मानी पत्रकार से मिलने की बात

हालांकि सीएम हरीश रावत ने पूछताछ में पत्रकार से मिलने की बात मानी। साथ में उन्होंने यह भी कहा कि यह सब एक साजिश के तहत हुआ है। इसकी भी जांच होनी चाहिए। फिलहाल स्टिंग मामले में देखना ये होगी कि राजनीतिक रंग लिए ये मामला किस तरफ रूख करता है।

loading...
शेयर करें