उमर खालिद और अनिर्बान को हाईकोर्ट से झटका, दोनों को घुटने टेकने होंगे

0

नई दिल्ली। जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) में देशविरोधी नारे लगाने के आरोपी उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य को हाईकोर्ट से झटका लगा है। कोर्ट ने दोनों छात्रों को कल तक गिरफ्तारी से अंतरिम राहत देने से इनकार कर दिया।

उमर खालिद और अनिर्बान पर कोर्ट में सुनवाई

कोर्ट ने कहा है कि दोनों आत्मसमर्पण करें। उमर खालिद व अनिर्बान भट्टाचार्य ने दिल्ली हाइकोर्ट में याचिका दायर कर आत्मसमर्पण के लिए सुरक्षा की मांग की थी। इस पर दिल्ली हाइकोर्ट ने कहा कि उमर और अनिर्बान भट्टाचार्य को कोर्ट में हाजिर होना ही होगा।

कोर्ट ने उमर खालिद और अनिर्बान के वकीलों से कहा, ‘यहां आप कुछ तय नहीं करेंगे। आपको कानूनी प्रक्रिया का सामना करना होगा। गिरफ्तारी के बाद पुलिस को 24 घंटों के भीतर उमर खालिद और अनिर्बान को मजिस्ट्रेट के पास पेश करना होगा। मजिस्ट्रेट तय करेंगे कि वह दोनों पुलिस हिरासत में जाएंगे या न्यायिक हिरासत में। जाे कानूनी तौर पर सही होगा, वही फैसला लिया जाएगा।’ कोर्ट ने कहा कि उमर खालिद और अनिर्बान की सुरक्षा की जिम्मेदारी पुलिस की होगी।

उमर खालिद और अनिर्बान

हालांकि कोर्ट ने उमर खालिद और अनिर्बान से कहा‍ कि वे दोनों जहां चाहे समर्पण कर सकते हैं, जिसका पुलिस ने विरोध किया। कोर्ट ने कहा कि गिरफ्तारी की जगह क्या होगी, इस बारे में बुधवार को सुनवाई की जाएगी। उधर, मामला एक बार फिर गर्माने पर जेएनयू कैंपस को पुलिस ने अपने घेरे में ले लिया है। सुरक्षा व्यवस्था सख्त कर दी गई है।

इन पर है देशद्रोह का आरोप

  • उमर खालिद
  • अनंत प्रकाश नारायण
  • राम नागा
  • आशुतोष कुमार
  • अनिर्बान भट्टाचार्य

इस बीच खबर यह भी है कि जेएनयू मामले में कश्मीर यूनविर्सिटी के छात्रों ने विरोध प्रदर्शन किया है। आरोप है कि इन छात्रों ने भी भारत विरोधी और कश्मीर की आजादी के नारे लगाए हैं। ये छात्र जेएनयू स्टूडेंट लीडर कन्हैया की गिरफ्तारी का विरोध करने के लिए जुटे थे, लेकिन अचानक हो-हल्ला मचा और छात्रों ने देशविरोधी नारे लगाने शुरू कर दिए। कश्मीर यूनिवर्सिटी के इन छात्रों के हाथ में जो बैनर थे, उन पर लिखा था, ‘तुम कितने कन्हैया पकड़ोगे, हर घर से कन्हैया निकलेगा।’ तो कुछ बैनर्स पर ‘हम चाहते आजादी’ लिखा हुआ था।

 

loading...
शेयर करें