नोटबंदी के बाद उर्जित पटेल की सैलरी में हुआ बंपर इजाफा, अब मिलेगी इतनी सैलरी

0

नई दिल्‍ली। नोटबंदी के बाद अगर किसी को फायदा हुआ है तो सिर्फ दो लोगों को। खबर मिली है कि रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल और डिप्टी गवर्नर की सैलरी में करीब तीन गुना बढ़ोतरी की गई है। अब RBI गवर्नर को हर महीने 2.5 लाख रुपये की बेसिक सैलरी, वहीं डिप्टी गवर्नर को 2.25 लाख रुपये की बेसिक सैलरी मिला करेगी। अब तक गवर्नर की बेसिक सैलरी 90,000 रुपये तथा उनके डिप्टी गवर्नर का बेसिक 80,000 रुपये था, जिसे 1 जनवरी 2016 से संशोधित किया गया है।

उर्जित पटेल और डिप्टी गवर्नर की सैलरीउर्जित पटेल और डिप्टी गवर्नर की सैलरी का हुआ खुलासा

सूचना के अधिकार कानून (आरटीआई) के तहत पूछे गए सवाल के जवाब में केंद्रीय बैंक ने कहा कि वित्त मंत्रालय की 21 फरवरी की सूचना के अनुसार, गवर्नर और डिप्टी गवर्नर के बेसिक सैलरी को संशोधित किया गया है। इस संशोधन के बाद RBI गवर्नर उर्जित पटेल की बेसिक सैलरी 2,50,000 रुपये प्रति महीने, जबकि डिप्टी गवर्नर का 2,25,000 रुपये प्रति महीने होगा।

एक जनवरी 2016 से बढ़ी सैलरी

इसमें साथ ही बताया गया है कि RBI के गवर्नर और डिप्टी गवर्नर को बेसिक सैलरी के अलावा महंगाई भत्ता सहित कई दूसरे भत्ते भी मिलेंगे। यह वृद्धि 1 जनवरी 2016 से प्रभावी मानी जाएगी।

ग्रॉस सैलरी की जानकारी नहीं

रिजर्व बैंक के जवाब के अनुसार महंगाई भत्ते की अधिसूचना केंद्र सरकार समय-समय पर करता है, जबकि अन्य सभी भत्तों का भुगतान मौजूदा दर पर किया जाता है। हालांकि केंद्रीय बैंक ने गवर्नर और डिप्टी गवर्नर के नई ग्रॉस सैलरी की जानकारी नहीं दी है।

उर्जित पटेल को नहीं मिले सहायक

इससे पहले खबर आई थी कि RBI के गवर्नर उर्जित पटेल का वेतन दो लाख रुपये से कुछ ही ज्यादा है और उन्हें घर पर सहायक कर्मचारी भी नहीं दिए गए हैं। रिजर्व बैंक ने बताया है कि पटेल ने सितंबर में गवर्नर का पद ग्रहण किया था और अभी वह अपने डिप्टी गवर्नर के तौर पर आवंटित किए गए फ्लैट में ही रह रहे हैं।

loading...
शेयर करें