एक महीने के लिए बंद हुए आदिबदरी के कपाट

0

utt-adibadri-1

चमोली(आदिबदरी)। पौष माह की संक्रांति के मौके पर बुधवार शाम सात बजे भगवान आदिबदरी नाथ के कपाट श्रद्धालुओं के जयकारे के साथ विधि-विधान से एक माह के लिए बंद हो गए। इस दौरान आदिबदरी धाम वेद और ऋचाओं से गूंजता रहा। वहीं सैकड़ों श्रद्धालु भी मौके पर मौजूद रहे। मंदिर समिति के अध्यक्ष विजयेश नवानी ने बताया कि एक माह बाद माघ की संक्रांति को मंदिर के कपाट श्रद्धालुओं के लिए खोले जाएंगे। इस अवसर पर मंदिर में महाभिषेक और सात दिवसीय पाठ का आयोजन भी होगा।

utt-adibadri-3

बुधवार को ब्रह्म मुहूर्त में पुजारी चक्रधर थपलियाल ने आदिबदरी नाथ का पंच सिंधु जल के साथ स्नान कराया, जिसके बाद उनका श्रृंगार कर पंच ज्वाला आरती उतारकर भोग लगाया गया। इसके बाद आचार्य समूह की ओर से सूर्य पूजा का आयोजन किया गया। आदिबदरी नाथ के दर्शनों के लिए श्रद्धालु डटे रहे। दिन भर शंख ध्वनि के साथ स्कूली और महिला मंगल दलों ने भजन कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए। संध्याकाल में श्रद्धालुओं ने कड़ाह भोज (हलवा) तैयार किया और मंदिर के पुजारी ने आदिबदरी नाथ की आरती उतारकर उन्हें सामूहिक भोग लगाया। इसके बाद शाम को सात बजे पुजारियों ने श्री आदिबदरी नाथ का क्रीट मुकुट और वस्त्र उतारकर घी से महाभिषेक किया। और मंदिर के कपाट एक महीने के लिए बंद कर दिए।

loading...
शेयर करें