योगी सरकार की बड़ी कार्रवाई, चिप लगाकर पेट्रोल चोरी करने वाले 7 पट्रोल पंप सीज

0

लखनऊ। सत्ता में आने के बाद योगी सरकार लगातार भ्रष्टाचार रोकने के लिए सख्त कदम उठा रही है। इसी कड़ी में बीती रात यूपी एसटीएफ की टीम ने राजधानी लखनऊ के करीब दर्जन भर पेट्रोल पंपों पर छापा मारा। टीम ने कई जगहों से रंगे हाथों पेट्रोल की चोरी भी पकड़ी। एसटीएफ ने कई पेट्रोल पंप कर्मचारियों को हिरासत में लिया है।

एसटीएफ

एसटीएफ की टीम ने कई पेट्रोल पंपों पर की छापेमारी, कर्मचारी हिरासत में लिए गए

वहीँ टीम ने 7 पेट्रोल पंप को चिप लगाकर कम पेट्रोल दिए जाने के मामले सीज भी कर दिया। इस कार्रवाई के दौरान एसटीएफ टीम को पता चला की ग्राहकों से तो पैसे पूरे लिए जाते हैं लेकिन तेल कम दिया जाता है। जानकारी के मुताबिक, गुरुवार को एसटीएफ और जिला प्रशासन की संयुक्त टीम ने लखनऊ के सात पेट्रोल पंप पर छापा मारा। इस दौरान जांच में पता चला कि तेल चोरी कर करोड़ों का वारा  न्यारा किया जा रहा है।

जांच में पता चला कि ग्राहक को एक लीटर पेट्रोल की जगह सिर्फ 900 मिलीलीटर तेल ही मिल रहा था। छापेमारी के दौरान पता चला कि  चौक, मड़ियांव, डालीगंज ,इलाको में पेट्रोल पम्प मालिक पेट्रोल की चोरी कर रहे हैं। पेट्रोल पम्प मालिक एक डिवाइस लगा कर पेट्रोल चोरी कर रहे थे। यहां सबसे बड़ी बात यह है कि इस गोरखधंधे में यूपी पेट्रोल पंप एसोसिएशन के अध्यक्ष बीएन शुक्ल का पेट्रोल पंप (स्टैण्डर्ड फ्यूल स्टेशन) भी शामिल है।

छापेमारी टीम में शामिल अधिकारियों का कहना है कि पकड़े गए इलेक्ट्रीशियन राजेंद्र के मुताबिक राजधानी के अलावा अन्य जिलों के सैकड़ों पेट्रोल पंप में भी यह गड़बड़ी की गई है। उनका कहना है कि शहर के इन पेट्रोल पंपों की मशीनों के अंदर चिप लगा थ, जिसे रिमोट के जरिये संचालित किया जाता था। पंप के कर्मचारी की ओर से रिमोट दबाते ही पाइप से तेल गिरना बंद हो जाता था, लेकिन मशीन की स्क्रीन पर तेल और पैसे का मीटर अपनी रफ्तार से ही चलता था।

राजधानी लखनऊ में इससे पहले कभी पेट्रोल पंप  पर इस तरह की कार्रवाई नहीं हुई। ऐसा पहली बार होने से हर तरफ हडकंप मचा हुआ है। अब एसटीएफ के सामने चुनौती थी उस डिवाइस को तलाशने की जिसके जरिए पेट्रोल में हेराफेरी की जा रही थी।

loading...
शेयर करें