एसटीएफ ने दबोचा शूटर, 25 साल से दे रहा था चकमा

0

लखनऊ। एसटीएफ ने मुम्बई में 1990 के दशक में सक्रिय कुख्यात अण्डरवर्ल्ड सरगना गुरू साटम गैंग के शूटर उदयभान सिंह को गिरफ्तार कर लिया। एसटीएफ ने बनारस में उसे धर दबोचा। 25 साल से फरार था। एसटीएफ को उसकी तलाश थी। मुंबई के बालू कारोबारी की हत्‍या में उदयभान का नाम सामने आया था।

UDAYBHAN_SINGH

एसटीएफ से मुंबई पुलिस ने मांगी थी मदद

उदयभान की गिरफ्तारी के लिए मम्बई पुलिस ने यूपी एसटीएफ से मदद मांगी थी। एसटीएफ को पता चला कि उदयभान जनपद वाराणसी, भदोही व जौनपुर क्षेत्र में घूम-फिर कर रहता है। इस सूचना से मुम्बई पुलिस को अवगत कराया गया जिसपर क्राइम ब्रान्च थाणे सिटी की एक टीम भी वाराणसी पहुंच गयी। अनिल चौबे उर्फ विजय सिंह की गिरफ्तारी के बाद से उदयभान अपने सहयोगियों के यहाँ छिप कर रह रहा था।

पहली बार मिल कर्मचारी की हत्‍या की थी

उदयभान ने पूछताछ  में बताया कि वह बचपन से मुम्बई में रहता था और  कपड़े की मिल में काम करता था। यहां उसका सम्पर्क गुरू साटम गैंग से हुआ। वर्ष 1990 में ही थाना भुईवाड़ा, मुम्बई में गुरू साटम के कहने पर अपने ही मिल के कर्मचारी की हत्या की थी। विवेचना के दौरान यह तथ्य प्रकाश में आया कि उक्त हत्या में मुम्बई के सुरेश मचेकर, वाराणसी के अनिल चौबे उर्फ बवजय सिंह व उदयभान सिंह गुरू साटम गैंग के शूटर थे, जिन्होंने 15 लाख की सुपारी लेकर बालाराम मात्रे की हत्या की।

ग्राम प्रधान और ग्राम पंचायत सदस्‍य भी रह चुका था

उदयभान सिंह वर्ष 2000-2005 तक ग्राम प्रधान व 2010-2015 तक जिला पंचायत सदस्य भी रहा है। उदयभान सिंह से गहन व विस्तृत पूछताछ मुम्बई पुलिस के अधिकारियों द्वारा की जा रही है।
उदयभान सिंह के खिलाफ वाराणसी व महाराष्ट्र में लगभग दो दर्जन अभियोग पंजीकृत होना प्रकाश में आया है। इसके अन्य आपराधिक इतिहास के बारे में गहन छानबीन की जा रही है।

 

loading...
शेयर करें