एसपी सलविन्दर सिंह का लाई डिटेक्टर टेस्ट अगले हफ्ते

नई दिल्ली। पठानकोट हमले के बाद शक के घेरे में आए गुरदासपुर के तत्कालीन एसपी सलविन्दर सिंह का लाई डिटेक्टर टेस्ट होगा। गृह मंत्रालय ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि अगले सप्ताह सलविंदर सिंह का लाई डिटेक्टर टेस्ट किया जाएगा। पिछले चार दिन से एनआईए लगातार उनसे पूछताछ कर रही है।

एसपी सलविन्दर सिंह

एसपी सलविन्दर सिंह ने बार बार बदले बयान

एनआईए ने सलविंदर के दोस्त, उनके कुक और पंज पीर दरगाह के रखवाले से भी पूछताछ की है। सलविंदर ने दावा किया था कि पठानकोट हमले में शामिल आतंकवादियों की ओर से अगवा किए जाने से पहले वह दरगाह गए थे। कहा जा रहा है कि वह बार-बार अपना बयान बदल रहे हैं।

सूत्रों के मुताबिक, पूछताछ में सलविंदर ने बताया था कि आतंकवादियों को ड्रग माफिया समझकर उनकी मदद की थी। उनको आतंकवादियों की पहचान नहीं थी। उन्हें लग रहा था कि आतंकवादी ड्रग सिंडिकेट का हिस्सा हैं। इसलिए वह उन्हें सीमा पार करने में मदद करने के लिए गया था।

ड्रग तस्करों से संबंध का शक

एनआईए ने सलविंदर सिंह के सीडीआर से कई नंबरों की पहचान की है, जो ड्रग तस्करी से जुड़े हुए हैं। हालांकि, सलविंदर इन्हें मुखबिर बता रहे हैं, लेकिन एनआईए इस एंगल से जांच कर रही है कि ये नंबर ड्रग तस्करों के हैं। उस दिन वह वहां तस्करों की घुसपैठ के लिए मौजूद थे।

सभी के बयानों में विरोधाभास

पठानकोट में हुए हमले के बाद से ही सलविंदर सिंह ने शक के घेरे में हैं। NIA ने एसपी सलविन्दर सिंह, उनके दोस्त और कुक के बयानों के बीच विरोधाभास पाया है। सवाल ये भी है कि टैक्सी ड्राइवर की हत्या करने वाले आतंकियों ने उन्हें बिना गंभीर नुकसान पहुंचाए कैसे छोड़ दिया। वह बिना हथियार क्यों निकले थे।

इससे पहले एक बयान में सलविंदर ने कहा था कि वह खुद पीड़ित हैं, संदिग्ध नहीं। उनको गंभीर चोटें लगी थीं। पठानकोट के कोलिआं मोड़ पर अचानक आतंकी उनकी गाड़ी में घुस गए। उन्होंने अंदर की लाइट बंद करने के लिए कहा। उन्हें पीछे धकेल दिया। सभी आतंकियों के गन प्वाइंट पर थे।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button