नेवी कैडेट्स को एक-दूसरे का रेप करने के लिए करते थे मजबूर

0

सिडनी। ऑस्ट्रेलियन नेवी के कुछ कैडेट्स ने चौकाने वाले खुलासे किये हैं। कैडेट्स ने बताया कि ट्रेनिंग के दौरान उन्हें एक-दूसरे का रेप करने के लिए मजबूर किया जाता था। इसे राइट ऑफ पैसेज का नाम दिया गया। इन कैडेट्स ने हाल ही में ऑस्ट्रेलियन रॉयल कमीशन के सामने यह शिकायत की है। कमीशन उनके बयानों की जांच कर रहा है।

ऑस्ट्रेलियन नेवी

ऑस्ट्रेलियन नेवी कैडेट्स की दर्द भरी ट्रेनिंग

रॉयल कमीशन के सामने कुछ कैडेट्स ने अपनी आपबीती सुनाई बताया कि रेप के अलावा कैडेट्स को  अपने प्राइवेट पार्ट पर जूते की पॉलिश यूज करने लिए मजबूर करते थे। इसे वे ‘ब्‍लैकबॉलिंग’ कहते थे। इसके साथ ही टॉयलेट में सिर डाल कर फ्लश चला दिया जाता था। इसे ‘रॉयल फ्लश’ कहा जाता था।

कैडेट्स ने खुलासा करते हुए कहा कि ऐसा बर्ताव करने वाले लोग इन हरकतों को मर्द बनने का तरीका बताते थे। एक फॉरेन नेवी मेंबर ने बताया कि एक रात उसे बिस्‍तर से जबरदस्ती उठा लाया गया और पूरी ट्रेनिंग के दौरान उसके साथ कई बार रेप हुआ। मीडिया को कैडेट ने बताया कि अक्सर वे मुझे आधी रात में बिस्‍तर से खींच कर खेल के मैदान में ले जाते थे।

ऑस्‍ट्रेलियाई रॉयल कमीशन ने 15 साल की इलेनोर टिब्‍ब्‍ल की मौत के मामले में भी सुनवाई की जिसने 2000 में आत्महत्या कर ली थी। उसे अपने इंस्‍ट्रक्‍टर के साथ सेक्स संबंध बनायें रखने की वजह से धमकी दी गई थी। आरोप है कि 30 साल का ट्रेनिंग इंस्‍ट्रक्‍टर कथित रूप से उस लड़की के साथ सेक्‍शुअल रिलेशनशिप में था। उसे लगातार डराया धमकाया जाता था जिसकी वजह से उसने ख़ुदकुशी कर ली थी।

ऑस्‍ट्रेलियाई रॉयल कमीशन तब बनाया गया था जब लगातार शिकायते मिल रही थी लगभग 24 हजार शिकायतें मिलने के बाद रॉयल कमीशन का गठन किया गया था। इन शिकायतों में 111 लोगों की शिकायतें सुनी जिनमे ये कैडेट्स भी शामिल हैं। इन शिकायतों में कहा गया है कि ऑस्‍ट्रेलियन डिफेंस फोर्स (एडीएफ) कैडेट्स को मेंटली और सेक्शुअली परेशान करती हैं।

loading...
शेयर करें