कन्हैया कुमार को वकीलों ने पीटा, फिर कोर्ट ने 14 दिनों के लिए भेजा जेल

0

कन्हैया कुमारनई दिल्ली। जेएनयू में देश विरोधी नारे लगाने के आरोपी कन्हैया कुमार की आज पटियाला हाउस कोर्ट में पेशी चल रही है। इससे पहले यहां तिरंगा लेकर आए वकीलों ने आज कन्हैया कुमार के साथ मारपीट भी की। साथ ही भारत माता की जय के नारे लगाए। मामले की गंभीरता को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने पटियाला हाउस कोर्ट की कार्यवाही को रोक दिया। हालांकि इस दौरान कन्हैया कुमार को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।

कन्हैया कुमार की पेशी

सुप्रीम कोर्ट ने 5 वरिष्ठ वकीलों की एक टीम को पटियाला हाउस कोर्ट भेजा था और स्थिति का जायजा लेकर कोर्ट को अवगत कराने के आदेश दिए थे। हालांकि दिल्‍ली पुलिस कमिश्‍नर ने अपने बयान में कहा है कि कन्‍हैया के साथ किसी भी तरह की मारपीट नहीं की गइ। वह पूरी सुरक्षा के बीच कोर्ट परिसर में पहुंचा था।

कोर्ट परिसर में कन्हैया के समर्थक और विरोधी वकीलों के बीच भी हाथापाईं हुई। कन्हैया की पेशी से पहले पटियाला हाउस कोर्ट परिसर में तिरंगा लेकर आए वकीलों ने ‘भारत माता की जय’ के नारे लगाए।

पीटीआई की खबर जिसमें दावा किया गया है कि कन्हैया कुमार की गिरफ्तारी अति उत्साह में की गई है। इस खबर पर दिल्‍ली पुलिस कमिश्‍नर बीएस. बस्सी ने कहा कि आप या तो पीटीआई की खबर मान लो या जो जांच कर रहा है उसकी। बस्सी ने कहा कि जेएनयू कार्यक्रम में छात्रों के अवाला कुछ बाहर के लोग भी थे, हम इस पहलू की भी जांच कर रहे हैं। हमारा रवैया हमेशा निष्पक्ष रहा है। जो लोग गिरफ्तार हुए वे जायज गिरफ्तार हुए। जांच हम कर रहे हैं सबूत है या नहीं ये दूसरे बता रहे हैं।

वहीं इस मामले में अभी चार छात्रों की तलाश जारी है। इन आरोपी छात्रों की तलाश में छापेमारी हो रही है। जेएनयू ने छात्रों का पता और फोन नंबर बताया है। उनकी तलाश की जा रही है। सभी आरोपी छात्र फरार हैं। इनमें उमर खालिद, आशुतोष कुमार , अनिरबन भट्टाचार्यस रामा नागा और अनंत प्रकाश की तलाश में छापेमारी हो रही है। इनकी तलाश में यूपी, बिहार, श्रीनगर में छापेमारी हो रही है। दिल्ली पुलिस सूत्रों का कहना है कि कन्हैया भी नारेबाजी में शामिल था और आजादी के नारे लगा रहा था।

loading...
शेयर करें