कन्हैया को जेल में सता रहा जान का खतरा, सुप्रीम कोर्ट में जमानत अर्जी पर सुनवाई आज

0

कन्हैया कुमारनई दिल्ली। जेएनयू में देश विरोधी नारे लगाने के आरोपी कन्हैया कुमार ने सुप्रीम कोर्ट में जमानत की अर्जी दाखिल की है। सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश न्यायमूर्ति जे. चेलमेश्वर और न्यायमूर्ति अभय मनोहर सप्रे ने कहा कि जमानत याचिका पर शुक्रवार सुबह 10.30 बजे सुनवाई होगी।

कन्हैया कुमार की जमानत याचिका

कन्हैया कुमार की ओर से याचिका दाखिल करने वाली अधिवक्ता वृंदा ग्रोवर ने याचिका में कहा कि पटियाला हाउस कोर्ट परिसर का माहौल आवेदन पेश करने के लिए सही नहीं है, इसलिए छात्रसंघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार अनुच्छेद 32 के तहत जमानत के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है।

क्या है अनुच्छेद 32

अनुच्छेद 32 के तहत एक नागरिक अपने मौलिक अधिकार सुनिश्चित कराने के लिए सुप्रीम कोर्ट का रुख कर सकता है।

कन्हैया ने जमानत याचिका में क्या कहा

कन्हैया ने तिहाड़ जेल में अन्य कैदियों से जान का खतरा बताया है। उसने कहा कि उसे जेल में भी जान का खतरा है। जमानत याचिका में कन्हैया की ओर से कहा गया कि वह बेगुनाह है। पुलिस को अब हिरासत की जरूरत नहीं है। रिपोर्ट कहती है कि उसके खिलाफ ठोस सबूत नहीं मिले हैं। उसके खिलाफ ठोस सबूत मिलने से पहले ही गुनाहगार जैसा बर्ताव किया गया। पटियाला हाउस में उसे पीट-पीटकर मार डालने की कोशिश की गई। उसके अधिकारों का हनन किया गया।

याचिका में यह भी लिखा गया है कि पटियाला हाउस कोर्ट में सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बावजूद सुरक्षा नहीं हो पाई। वहां उसे फेयर ट्रायल नहीं मिलेगा। इसलिए ऐसे हालात में सुप्रीम कोर्ट जमानत दे। वहीं इससे पहले दिल्ली पुलिस कमिश्नर बीएस बस्सी नरम रुख अख्तियार करते हुए कह चुके हैं कि पुलिस कन्हैया की जमानत का विरोध नहीं करेगी।

पटियाला हाउस कोर्ट ने बुधवार को जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार को 14 दिन की न्यायिक रिमांड पर भेज दिया था।

loading...
शेयर करें