कर्नाटक चुनाव: ओवैसी ने लिया बड़ा फैसला, फेर दिया AIMIM के क्षेत्रीय नेताओं के उम्मीदों पर पानी

चेन्नई: हैदराबाद संसदीय क्षेत्र के सांसद और ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के मुखिया असदुद्दीन ओवैसी ने कर्नाटक में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर एक बड़ा फैसला लिया है। दरअसल, असदुद्दीन ओवैसी ने निर्णय लिया है कि उनकी पार्टी कर्नाटक चुनाव में हिस्सा नहीं लेगी। ओवैसी ने यह फैसला पार्टी के आला नेताओं के साथ बैठक के बाद लिया। इसके पहले ओवैसी की पार्टी ने चुनाव में हिस्सा लेने की बात कही थी।

ओवैसी

मिली जानकारी के अनुसार, असदुद्दीन ओवैसी ने कर्नाटक चुनाव को लेकर अपने पार्टी के नेताओं से कई बार चर्चा की और अंत में चुनाव न लड़ने का फैसला लिया। इसके पहले पार्टी ने इस चुनाव में भाग लेने का निर्णय लिया था। इसके चलते पार्टी में तैयारियां भी शुरू हो गई थी।

कर्नाटक की कई सीटों पर काफी मजबूत मानी जाने वाली AIMIM ने क्षेत्रीय इकाई ने चुनाव के मद्देनजर उम्मीदवारों की लिस्ट भी तैयार कर ली थी। लेकिन अंत में असदुद्दीन ओवैसी ने चुनाव न लड़ने का फैसला करते हुए इन क्षेत्रीय नेताओं की उम्मीदों पर पानी फेर दिया है।

आपको बता दें कि कर्नाटक की 224 सीटों वाली विधानसभा के लिए 12 मई को मतदान किया जाएगा और मतगणना के लिए 15 मई का दिन निर्धारित किया गया है। इस चुनाव में मुख्य मुकाबला कांग्रेस, बीजेपी और जेडीएस के बीच है।

आपको बता दें कि अभी बीते दिनों कर्नाटक चुनाव को लेकर एक मीडिया संस्थान द्वारा किये गए ओपिनियन पोल से सामने आया था कि सूबे में कांग्रेस अपनी साख बचाने में कामयाब हो जाएगी। इस चुनाव में कांग्रेस को पूर्ण बहुमत तो नहीं हासिल होगा लेकिन पार्टी यहां सबसे ज्यादा सीटें जीतकर सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभर कर सामने आएगी।

वहीं भाजपा को इस चुनाव में 78-86 सीटों पर जीत हासिल करेगी और दूसरा स्थान काबिज करेगी। जबकि देवगौड़ा की जेडीएस राज्य में किंगमेकर की भूमिका में सामने आ सकती है। सूत्रों ने बताया कि एआईएमआईएम को लगता है, उनके इस चुनाव में उतरने से धर्मनिरपेक्ष दलों को नुकसान पहुंच सकता है।

Related Articles