कर्नाटक चुनाव: जनता का संकल्प है अब एक पल भी कर्नाटक को बर्बाद नहीं होने देना है: पीएम

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री ने कर्नाटक में होने वाले आगामी चुनाव का आगाज़ कर दिया है। प्रचार प्रसार की प्रक्रिया शुरु करते ही इस अभियान की भी शुरुआत हो चुकी है। इसकी शुरुआत गुलबर्गा की रैली से हुई। इसके बाद पीएम का अगला प्रचार तमाकुरा में पांच मई को होने वाली है। आयोजित हुई इस रैली में पीएम मोदी ने कांग्रेस पार्टी को निशाना बनाते हुए जमकर हमला बोला है।

बता दें यह चुनाव कर्नाटक में आगामी 12 मई को होने वाला है। सूत्रों की माने को पीएम मोदी के बाद कुछ ही दिनों में भाजपा के अन्य नेता भी सार्वजनिक सभाओं को संबोधित करने के लिए यहां उपस्थित होंगे।

पीएम मोदी ने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस के प्रति कर्नाटक में गुस्सा साफ दिखाई दे रहा है। जिसके बाद अब यहां की जनता को संकल्प ले लेना चाहिए कि पांच साल तो बर्बाद हुए लेकिन अब एक पल भी बर्बाद नहीं होना चाहिए। रैली में पीएम ने कांग्रेस पर कुछ आरोप भी लगाते हुए कहा कि कांग्रेस सरकार के शासन में दो दर्जन से भी ज्यादा भाजपा के कार्यकर्ता मारे गए थे। इस बात को याद दिलाते हुए उन्होंने जनता से पूछा कि मारे गए लोगों का कसूर क्या था। इसके साथ ही उन्होंने गरीबों का कर्जा मुहैया नहीं कराने का आरोप भी लगाया है।

चामराजनगर जिले के सांतेमरनाहल्ली की रैली में नाराज़गी जाहिर करते हुए पीएम ने कहा है कि ‘‘मैं कांग्रेस अध्यक्ष को चुनौती देता हूं कि वह हिन्दी, अंग्रेजी या अपनी माताजी की मातृभाषा में पार्टी की सरकार की उपलब्धियों के बारे में कागज पढ़े बिना, 15 मिनट तक बोलें….कर्नाटक के लोग अपना निष्कर्ष खुद निकाल लेंगे।’’

रैली में भाषण के दौरान पीएम ने याद दिलाया कि कलबुर्गी के साथ सरदार बल्लभ भाई पटेल का पुराना रिश्ता रहा है और कांग्रेस ने उनका हमेशा तिरस्कार किया है। साथ ही उन्होंने कहा कि कांग्रेस शहीदों का अपमान करना और इतिहास को भुलाना जानती है। जब कांग्रेस के सर्वोच्च नेता वंदे मातराम का अपमान भरी सभा में कर सकते हैं तो उनसे देशभक्ति सकरात्मक भाव में असंभव है। पीएम ने आगे कहा कि आज सभा को देखकर यही लग रहा है कि जनता मई की गर्मी बर्दाशत कर सकती है लेकिन कांग्रेस सरकार को नहीं।

फील्ड मार्शल करिअप्पा के बारे में याद दिलाते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने उनका भी अपमान किया। सर्जिकल स्ट्राइक जैसी चीज़ के बाद कांग्रेस ने एक जवान को गुंडा कह दिया।

इस चुनाव का मकसद नौजवानों का भविष्य तय करने के लिए है। पीएम ने कहा कि एससी-एसटी को सम्मानपूर्वक जीने के लिए हमने कठोर कानून बनाया है. हम एक ऐसा कानून बनाने की दिशा में है, ताकि समाज में भेदभाव नहीं रहे। हम आदिवासी कल्याण के लिए चुनी गई सरकार है। आदिवासियों ने आजादी में बड़ा योगदान दिया, मगर कांग्रेस ने 70 साल में देश के इतिहास को कुचल दिया।

किसानों का पक्ष लेते हुए उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना जैसी योजना कभी नहीं बनी। इसके साथ भाजपा सरकार ने किसानों के हित में बहुत सारे काम किए है, लेकिन कांग्रेस ने हमेशा उनके साथ अन्याय किया है। इसके साथ ही जहां जहां भाजपा की सरकार रहेगी वहां वहां किसानों को हमेशा प्राथमिकता दी जाएगी।

दलितों को निशाना बनाते हुए उन्होंने कहा कि ऐसा तो कांग्रेस दलितों के गुण गाते फिरते हैं, लेकिन याद करों ज़रा कि पिछले चुनाव में खड़गे जी के नाम पर वोट मांगा और खड़गे जी को बाहर कर दिया गया था। दलितों पर अत्याचार की जो घटनाएं कर्नाटक में हुई है, यह किसी से छिपी नहीं है। भाजपा जहां अपनी सरकार बनाती है फूल खिलाती है और अगर कांग्रेस की बात करी जाए तो यह सिर्फ परिवार ही फूलते हैं।

Related Articles