कश्मीर में आतंकी बुरहान के एनकाउंटर पर भड़की हिंसा, 23 की मौत

0

कश्मीरश्रीनगर। कश्मीर में फिर तनावपूर्ण माहौल पैदा हो गया है। आतंकी बुरहान वानी के एनकाउंटर के बाद कश्मीर के शोपियां, पुलवामा, कुलगाम और अनंतनाग में आज भी कर्फ्यू जारी है। वहां सभी अलगाववादी नेताओं को घरों में नज़रबंद कर दिया गया है।

कश्मीर में बढ़ सकती है हिंसा

कश्मीर के चप्पे-चप्पे पर सुरक्षाकर्मी तैनात हैं। ये सुनिश्चित करने के लिए कहीं कोई हिंसा ना भड़के लेकिन जिस तरह की हिंसा कल देखने को मिली उससे यही आशंका जतायी जा रही है कि आऩे वाले दिनों में हिंसा को रोकना सुरक्षाबलों के लिए काफी मुश्किल होने वाला है।

इस हिंसा में अबतक 23 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 225 से अधिक लोग घायल हो गए हैं। इस हिंसा में एक पुलिसकर्मी की भी जान चली गई। सरकार लगातार शांति की अपील कर रही है लेकिन हालात सामान्य नहीं हो रहे हैं।

अमरनाथ यात्रा पर भी पड़ा असर

अमरनाथ यात्रा आज तीसरे दिन भी रुकी हुई है। घाटी में कर्फ्यू के बाद भी हिंसक विरोध प्रदर्शन जारी है। बाइल इंटरनेट सेवाएं निलंबित बनी हुई हैं। श्रीनगर में चारों ओर सन्नाटा पसरा हुआ है। कर्फ्यू की वजह से दुकानें बंद हैं। गलियां सुनसान पड़ी हुई हैं। किसी भी तरह की गड़बड़ी को रोकने के लिए भारी मात्रा में सुरक्षाबलों की तैनाती की गयी है।

हालात की गंभीरता को देखते हुए कल जम्मू-कश्मीर कैबिनेट की एक इमरजेंसी मीटिंग भी की गई। अपील जारी की गयी ना सिर्फ मुख्य धारा में शामिल पार्टियों को बल्कि अलगाववादियों को कि वो सरकार की मदद करें। राज्य में शांति बनाने के लिए मीटिंग में कुछ अहम फैसले भी लिए गए। जिसमें सुरक्षाबलों को ये निर्देश जारी किए गए हैं कि वो स्टैंडर्ड ऑपरेशन प्रोसीजर्स को फॉलो करें और कम से कम फोर्स का इस्तेमाल करें। ताकि जो जान का नुकसान है वो कम हो जाए।

हिज्बुल मुजाहिदीन के कमांडर बुहरान वानी की मौत के बाद फैली हिंसा के मद्देनजर कल दूसरे दिन अमरनाथ यात्रा भी रोक दी गई। कुछ फंसे हुए तीर्थयात्रियों को सुरक्षित निकाला गया. जम्मू का जो बेस कैंप है वहां पर भीड़ बढ़ गई है। ये वो लोग हैं। जिन्हें दो दिन से इंतज़ार था यहां से श्रीनगर के लिए रवाना होने का लेकिन वो रवाना नहीं हो सके हैं।

राज्यपाल एनएन वोहरा और अमरनाथ श्राइन बोर्ड के चेयरमैन आज राज्य के मुख्य सचिव, डीजीपी, और गृह सचिव के साथ बैठक कर हालात की समीक्षा करेंगे.

हालांकि प्रशासन की ओर से श्रद्धालुओं की पूरी मदद की जा रही है। लेकिन सुरक्षा कारणों की वजह से यात्रा के जल्दी शुरु होने के आसार नज़र नहीं आ रहे हैं।

loading...
शेयर करें