कांग्रेस को लगा झटका, उपराष्ट्रपति ने खारिज किया चीफ जस्टिस के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव

नई दिल्ली। उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू ने चीफ जस्टिस के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव को खारिज कर दिया है। कानूनी सलाह लेने व पूर्ण विचार-विमर्श के बाद उन्होंने यह फैसला लिया है। कांग्रेस के लिए यह बहुत बड़ा झटका माना जा रहा है। कांग्रेस की ही अगुवाई में विपक्षी दलों ने साथ मिलकर मुख्य न्यायधीश के खिलाफ यह प्रस्ताव पेश किया था।

वैंकेया ने बताया महाभियोग को राजनीति से प्रेरित
महाभियोग प्रस्ताव को खारिज करते हुए उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू ने कहा कि यह राजनीति से प्रेरित एक कदम था। जिसे अस्वीकार किया जाता है। उन्होंने अटॉर्नी जनरल के. के. वेणुगोपाल सहित संविधानविदों और कानूनी विशेषज्ञों से विचार-विमर्श करने के बाद आज चीफ जस्टिस के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव वाले नोटिस को खारिज कर दिया है।

भारतीय संविधान के एक अनुसार एक न्यायधीश को उसके पद से हटाने के लिए संसद के दोनों सदनों प्रस्ताव पारित कराने की आवश्यकता होती है। इसके बाद राष्ट्रपति के आदेश देने के बाद ही उसे पद से हटाया जा सकता है।

कानूनी विशेषज्ञों के मुताबिक अगर राज्यसभा के सभापति प्रस्ताव को स्वीकार नहीं करते हैं तो याचिकाकर्ता कोर्ट में चुनौती दे सकते हैं। नोटिस देना सदन के किसी भी नियम के तहत नहीं आता बल्कि यह शक्ति कानून की ओर से प्रदान की गई है।

Related Articles