किसके कांसीराम : आप के या मायावती के

0

नई दिल्ली। बीएसपी के संस्थापक कांसीराम के लिए मायावती तो पहले से कुर्बान थी अब आम आदमी पार्टी ने भी दलित वोटरों को लुभाने के लिए कांसीराम का दामन थाम लिया है। आज एक ही दिन में दो जगह और दो सुरों से कांसीराम को भारत रत्न देने की मांग की गई। राजधानी दिल्ली में मायावती और पंजाब के श्री आनंदपुर साहिब में अरविन्द केजरीवाल ने ये मांग की।

कांसीराम को भारत रत्न

कांसीराम को भारत रत्न देने की मांग की दोनों नेताओं ने

पंजाब के चुनावी दौरे पर आए आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दलित वोट बैंक को लुभाना शुरू कर दिया है। केजरीवाल बसपा सुप्रीमो स्वर्गीय कांसीराम की जयंती पर उनके पैतृक गांव प्रिथीपुर में करवाए गए समारोह में हिस्सा लेने पहुंचे थे। इस मौके केजरीवाल ने  कहा कि डॉ अम्बेडकर के सपनों को पूरा करने वाले कांसीराम ही थे और वह राज्यसभा में कांसीराम को भारत रत्न देने की मांग करेंगे।

दूसरी तरफ दिल्ली में बीएसपी अध्यक्ष मायावती कांसीराम को देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत देने की मांग की। मायावती ने कहा कि आज राजनीतिक पार्टियां कांसीरामजी की बात तो करती हैं लेकिन आरक्षण और उनके सिद्धांतों के खिलाफ बात करती हैं।

मायावती ने कहा कि समाज का कमजोर तबका इस तरह की बातों में फंसने वाला नहीं है। संसद भवन के बाहर पत्रकारों के बीच मायावती ने कहा कि मुझे लगता है कि कांसीरामजी के सम्मान का उन्हें भारत रत्न देकर ही न्याय किया जा सकता है। इससे पहले मायावती ने आज राज्यसभा में ये मसला उठाया और कांसीराम को भारतरत्न देने की मांग की।

मायावती ने राज्य सभा में कहा कि आज हम सब कांसीराम जी की जयन्ती मना रहे हैं। इस मौके पर पर सरकार से ये अनुरोध करना चाहती हूं कि गरीबों और सामाजिक रुप से पिछड़े लोगों के उत्थान के लिए उन्होंने जो काम किए उसे देखते हुए उन्हें जरूर भारत रत्न से सम्मानित किया जाना चाहिए।

loading...
शेयर करें