कानपुर शूटआउट: अमर दुबे की पत्नी खुशी को लेकर हुआ बड़ा खुलासा…

कानपुर शूटआउट में विकास दुबे के फरार होने के बाद पुलिस ने उसके सहयोगियों पर ताबड़तोड़ कार्रवाई की जिसकी जद में तीन दिन पहले शादी करके आई एक बहू भी शामिल थी. कानपुर में विकास दुबे के गांव में 2 जुलाई को मारे गए आठ पुलिसकर्मियों की हत्या में पुलिस ने विकास के सहयोगी भतीजे अमर की पत्नी ख़ुशी को भी जेल भेज दिया था.

बिकरू काण्ड के बाद पुलिस ने विकास के साथ हत्याकांड में शामिल रहे उसके भतीजे अमर दुबे को आरोपी बनाया था. अमर की शादी इसी 29 जून को ख़ुशी के साथ हुई थी लेकिन तीन दिन बाद ही अमर ने विकास के साथ आठ पुलिसकर्मियो की हत्या कर दी थी. उसके बाद वह फरार हो गया था.
पुलिस ने अमर के फरार होने के बाद जल्दबाजी में ख़ुशी को भी पुलिस हत्याकांड में सहयोगी दिखाकर जेल भेज दिया था जबकि ख़ुशी तो तीन दिन में घर से बाहर भी नहीं निकल पाई थी.

पुलिस ने अमर को पकड़ न पाने की नाकामी में 8 जुलाई को ख़ुशी को जेल भेजा था जबकि 8 जुलाई को ही अमर को पुलिस ने हमीरपुर में मार गिराया था. इसके बाद विकास के एनकांउटर के बाद विकास की पत्नी रिचा को जब पुलिस ने निर्दोष मानकर छोड़ा तो ख़ुशी के घरवालों ने ये आरोप लगाना शुरू कर दिया कि जब विकास की पत्नी को छोड़ा गया तो ख़ुशी को जेल क्यों भेजा गया.

इस बात को लेकर पुलिस की बदनामी भी होने लगी कि ख़ुशी को भला किस अपराध की सजा दी गई जब वह ढंग से किसी को जानती तक नहीं थी.

विकास की पत्नी को पुलिस ने पूछताछ के बाद छोड़ दिया था. इसके बाद पुलिस सवालों के घेरे में आ गई थी. सोमवार को एसएसपी दिनेश कुमार ने खुशी को जेल भेजने के मामले का संज्ञान लिया.

एसएसपी ने बताया कि जांच में खुशी की संलिप्तता नहीं पाई गई. इसके चलते उसे 169 की कार्यवाही के तहत जेल से छुड़ाने का आदेश जारी कर दिया है. पुलिस ने धारा 169 के तहत ख़ुशी को छुड़वाने की कार्यवाही शुरू भी कर दी है.

बता दें कि कानपुर के बिकरू गांव में 2 जुलाई की रात दबिश देने गई पुलिस टीम पर विकास दुबे और उसके साथियों ने हमला किया था. इस दौरान क्षेत्राधिकारी देवेंद्र मिश्रा समेत आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे. इसके बाद एनकाउंटर में विकास दुबे और उसके 5 साथी मारे जा चुके हैं.

पुलिस के अनुसार, इस पूरे मामले में 21 आरोपी थे, जिसमें चार लोग गिरफ्तार किए जा चुके हैं. गिरफ्तार आरोपियों में श्यामू वाजपेयी, जहान यादव, दयाशंकर अग्निहोत्री और शशिकांत हैं. अब तक 6 आरोपी एनकाउंटर में मारे जा चुके हैं, जिसमें विकास दुबे, राजाराम, अतुल दुबे, अमर दुबे, प्रभात मिश्रा और प्रवीण दुबे हैं.

आईपीसी की धारा 120 बी के तहत सात लोगों को गिरफ्तार किया गया है. धारा 216 में दो आरोपी जेल गए हैं. अभी इस केस में 11 लोगों की तलाश जारी है. इसके अलावा महाराष्ट्र में पकड़े गए दो लोगों को रिमांड पर यूपी लाया जा रहा है.

Related Articles

Back to top button