यकीन मानिए काली कमाई में ‘नंबर वन’ है ये शहर

0

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के कानपुर को काली कमाई के मामले में देश का पहला स्थान मिला है। जानकारी के मुताबिक अब तक इस शहर से करीब 1725 करोड़ रुपये काला धन सरेंडर हुआ है। इनकम टैक्स डिपार्टमेन्ट ने कानपुर को टैक्स देने की क्षमता के आकलन के आधार पर पहला स्थान दिया है।

काला धन

काला धन का सबसे ज्यादा खुलासा कानपुर में हुआ

प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त आनंद दीप के मुताबिक, सबसे ज्यादा कालाधन बाहर निकालने के मामले में कानपुर देश का पहला शहर बन गया है। उन्होंने कहा कि दिल्ली, मुंबई, कोलकाता के मुकाबले कानपुर बहुत छोटा शहर है लेकिन यहां के कारोबारियों ने केंद्र सरकार की इस स्कीम में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया और इसे सफल बनाया। देश की बेहतरी की दिशा में उनके इस कदम की आयकर विभाग सराहना करता है।

मर्चेंट चैंबर सभागार में आयकर अधिकारियों के सम्मान समारोह में उन्होंने स्कीम के तहत घोषित आय की रकम का खुलासा तो नहीं किया लेकिन विभागीय सूत्र बताते हैं कि कानपुर का सालाना टैक्स करीब 2000 करोड़ रुपये का है। इसके मुकाबले करीब 1725 करोड़ रुपये काला धन सरेंडर हुआ है।

दिल्ली और मुंबई के लोग कानपुर से ज्यादा टैक्स भी देते हैं लेकिन टैक्स की तुलना में काला धन जमा करने में दिलचस्पी कम ही दिखाई है।

प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त ने कहा कि उरई और बांदा जैसे बहुत पिछड़े छोटे शहर के कारोबारियों ने जिस तरह से आय की घोषणा की, यह बहुत अप्रत्याशित था।

मुख्य आयकर आयुक्त दुर्गाचरण दास ने कहा कि कानपुर जैसे शहर में तो टैक्स रिसर्च इंस्टीट्यूट की जरूरत है। इससे यहां के लोगों को टैक्स के बारे में जानकारी मिल सकेगी। टैक्स जमा करवाना भी एक कला है।

 

loading...
शेयर करें