IPL
IPL

कालेज के छात्र निकले देहरादून में दिखे संदिग्ध

देहरादून। गणतंत्र दिवस से कुछ घंटे पहले राजधानी देहरादून में आठ संदिग्ध दिखने की जिस सूचना ने पुलिस के होश उड़ा दिए थे, करीब 40 घंटों बाद बुधवार देर शाम सारी तस्वीर साफ हो गयी। ये आठ युवक संदिग्ध नहीं बल्कि एक स्थानीय कॉलेज के छात्र निकले, जो रात में चर्च में प्रार्थना कर वापस हॉस्टल लौट रहे थे। ये आठों कालेज के छात्र अपने कॉलेज के प्रधानाचार्य के साथ वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कार्यालय में मीडिया के सामने भी आए।

ये भी पढ़ें – उत्तराखंड में आठ संदिग्ध कैमरे में कैद, अलर्ट के साथ स्कैच जारी

कालेज के छात्र 2

कालेज के छात्र के खुलासे पर पुलिस को राहत

पूरे देश में आतंकी हमलों की धमकी के चलते मंगलवार को गणतंत्र दिवस परेड के लिए शहर में सुरक्षा व्यवस्था के तगड़े इंतजाम किए गए थे। दर्जनों स्थानों पर चेकिंग करने के साथ ही परेड स्थल को चारों ओर से सील भी किया गया था। हाल ही में रुड़की से गिरफ्तार किए गए चार संदिग्ध आतंकियों को लेकर भी खुफिया विभाग पूरी तरह सतर्क था। इसी बीच सोमवार रात करीब 11.30 बजे शहर में आठ संदिग्ध युवक दिखने की सूचना पुलिस मुख्यालय को मिली तो मुख्यालय समेत पूरे प्रदेश में हड़कंप मच गया। ये आठों संदिग्ध युवक एक रिटायर्ड अधिकारी के घर के बाहर लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज में दिखाई दे रहे थे। जिसके फौरन बाद डीजीपी बीएस सिद्धू ने सभी अधीनस्थों को इस मामले को गंभीरता से लेने के निर्देश दिए।

ये भी पढ़ें – देहरादून में बम की सूचना से मचा हड़कंप

कालेज के छात्र 3

इतना ही नहीं रातों-रात कई विशेष टीमें बनाकर इन संदिग्धों की तलाश भी शुरू कर दी गयी। बुधवार सुबह एक संदिग्ध की फुटेज भी जारी की गई। सुरक्षा कारणों से आइटीबीपी और सेना ने भी इस काम में पुलिस को पूरा सहयोग दिया। अर्द्धकुंभ में तैनात आतंकरोधी दस्ता ‘गुलदार’ और दो कंपनी पीएसी को भी राजधानी में बुला लिया गया। सुरक्षा की तमाम कवायदों के बीच बुधवार देर शाम पुलिस ने इस मामले का खुलासा किया।

एसएसपी डॉ. सदानंद दाते ने बताया कि ये आठों संदिग्ध नहीं बल्कि दून बाइबल कॉलेज के छात्र हैं। सोमवार रात को दून बाइबल कॉलेज ने सेंट थॉमस चर्च राजपुर रोड में प्रार्थना आयोजित की थी। यह प्रार्थना 24 घंटे की थी, इसलिए चार शिफ्ट में बारी-बारी से छात्रों ने प्रार्थना की। ये आठों छात्र रात में जिन रास्तों से गुजरे सभी स्थानों पर लगे सीसीटीवी कैमरों में इनका मूवमेंट कैद हुआ। आखिर में राथ साढ़े ग्यारह बजे एक रिटायर्ड अधिकारी के घर के बाहर इन्हें देखा गया। जिसके बाद उस अधिकारी ने ही इस बात की सूचना पुलिस को दी।

 
ये भी पढ़ें – रुड़की में मदरसे के छात्र नहीं कर सकेंगे सोशल मीडिया का प्रयोग

कालेज के छात्र 4

देश में शांति सद्भभाव की दुआ मांगने गए थे

राजधानी में जिन संदिग्ध युवकों के होने की सूचना के बाद पुलिस ने सुरक्षा व्यवस्था पुख्ता कर दी थी। बुधवार शाम खुलासा हुआ कि वे युवक किसी अप्रिय घटना को अंजाम देने के लिए शहर में नहीं घूम रहे थे, बल्कि वे तो देश के लिए अमन-चैन की प्रार्थना कर चर्च से लौट रहे थे। कालेज के छात्र के हाथों में जो बैग थे, उनमें हथियार नहीं, बल्कि धार्मिक पुस्तकें थी। कॉलेज के प्रधानाचार्य एसबी सिंह ने कहा कि राष्ट्रीय पर्वो पर कॉलेज की ओर से 24 घंटे की प्रार्थना की जाती है। ये सभी छात्र यहां पर पादरी का कोर्स कर रहे हैं। और उसी के तहत ये छात्र चर्च में हो रही प्रार्थना सभा में भाग लेने गए थे।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button