काले धन को बढ़ावा दे रहे हैं वित्त मंत्रालय के अधिकारी

भारत में काले धन की जांच में लगी सीबीआई ने वरिष्ठ अधिकारियों को लिखा है कि कर विभाग के अफसर व्यापारियों को कर भुगतान से बचने में मदद कर रहे हैं।

काले धन

एक ओर भारत में जहां काले धन को विदेशों में जमा करने वालों को निशाने पर लिया जा रहा है, वहीं सरकार के ही विभाग ने लिखा है कि कुछ बड़े कर अधिकारी कथित रूप से व्यापारिक घरानों का कालाधन बढ़ाने में लगे हुए हैं।
सरकारी सूत्रों ने बताया कि राजस्व विभाग. वित्त मंत्रालय के कुछ वरिष्ठ राजस्व अधिकारियों को चिह्नित कर लिया है जो कि बड़े व्यापारिक घरानों को कर चोरी में मददगार रहे हैं। सूत्रों ने बताया कि विभाग ने इस मामले में जांच की भी आवश्यकता जतायी है। वित्त मंत्रालय के एक पूर्व सचिव ने सीबीआई को गत वर्ष इस उच्च स्तरीय गठजोड़ के बारे में लिखा था। सूत्रों ने बताया कि सीबीआई इन आरोपों की जांच कर रही है। हालांकि एजेंसी ने मेल टु डे के इस बारे में वर्तमान स्थिति की जानकारी मांगे जाने वाले ई मेल का कोई जवाब नहीं दिया है।

अब तक जो तथ्य सामने आए हैं उससे यह साफ है कि कुछ अधिकारी कुछ लोगों और उद्योगों को उपकृत करने में लिप्त रहे हैं। कुछ बड़े करदाता भी इसमें शामिल हैं इसकी भी जांच की जानी चाहिए।

सीबीआई को भेजे गये पत्र में पांच वरिष्ठ अधिकारियों के नाम लिए गये हैं। पांच माह पूर्व एक रिमाइंडर भी एजेंसी को भेजा गया था।

काले धन को बढ़ावा देने में 20 नामों पर नजर

सूत्रों का यह भी कहना है कि यह भी संदेह है कि करोड़ों रुपये की इस कर चोरी में वरिष्ठ अधिकारियों और कारपोरेट हाउसेस का सिंडीकेट शामिल है। हालांकि वित्त मंत्रालय के अपने आंतरिक सर्विलास मैकेनिज्म और कुछ बाहरी इनपुट के आधार पर करीब 20 वरिष्ठ अधिकारी घूसखोरी के इस सिंडीकेट में रडार पर थे, इनमें से ही करीब पांच को चिह्नित कर सीबीआई को जांच के लिए लिखा गया। बाकी पर निगाह रखी जा रही है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button