यूपी चुनाव में सपा कांग्रेस को 94 सीटें देकर कर रही बहुत बड़ा एहसान…

0

लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव-2017 को लेकर सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के बीच महागठबंधन की कवायद अब पूरी तरह से टूट गई है। इस कवायद के ख़त्म होने के बाद अब सपा की ओर से कांग्रेस की मांग पर कटाक्ष होना भी शुरू हो गया है। दरअसल, सपा के उपाध्यक्ष किरणमय नंदा ने शुक्रवार को कहा है की कांग्रेस को चुनाव में 94 सीट देकर एहसान किया जा रहा था जबकि वो 54 सीटों से ज्यादा की हकदार नहीं है।

किरणमय नंदा

किरणमय नंदा ने कहा- कांग्रेस को 94 सीटें देकर सपा कर रही एहसान 

किरणमय नंदा ने शुक्रवार को दिल्ली में संवाददाताओं से बातचीत के दौरान यह बयान दिया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस 100 से ज्यादा सीटें मांग रही थी, जबकि वो 54 सीटों ने ज्यादा की हकदार नहीं है। गठबंधन या तालमेल नहीं टूटे इसलिए सपा उसे 94 सीटें तक देने को राजी हो गई थी। लेकिन इसके बावजूद कांग्रेस की ओर से कोई सकारात्मक उत्तर नहीं आया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को 94 सीटें ही मिलेंगी, आना है तो आ सकती है।

वहीं कांग्रेस की ओर से भी गठबंधन के टूट जाने के संकेत मिल रहे हैं। प्रदेश कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि हां, ऐसा हो सकता है क्योंकि समाजवादी पार्टी ने सात ऐसी सीटों पर प्रत्याशी उतार दिए हैं जिसे पिछले चुनाव में कांग्रेस ने जीती थी।

कांग्रेस के साथ संभावित गठबंधन टूटने की चर्चा के बीच किरणमय नंदा ने कहा कि पार्टी का घोषणापत्र आगामी सोमवार (23 जनवरी) को जारी होगा। सपा ने शुक्रवार को 191 प्रत्याशियों की सूची जारी की, जिसमें सात ऐसी सीटे हैं जिसे 2012 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने जीती थी।

किरणमय नंदा ने कहा कि पार्टी ने पहले, दूसरे और तीसरे चरण में होने वाले चुनावों के लिए प्रत्याशियों के नाम जारी किए हैं। इनमें 18 सीटें कांग्रेस के लिए छोड़ी गई हैं। उन्होंने कहा कि हम कांग्रेस को 54 सीटें देना चाहते हैं। लेकिन गठबंधन हो इसलिए 25 से 30 सीट और दे सकते हैं। नंदा ने कहा कि सपा 300 से ज्यादा सीटों पर चुनाव मैदान में उतरेगी।

वहीं सपा नेता नरेश अग्रवाल ने सपा उपाध्यक्ष द्वारा दिए गए इस बयान को उनकी निजी राय करार दिया है। उन्होंने अपने बयान में कहा कि किरणमय नंदा का बयान उनकी अपनी राय है। अंतिम फैसला मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को ही लेना है।  

loading...
शेयर करें