कुलभूषण की सजा पर पाक डिप्टी हाई कमिश्नर हुए तलब

0

नई दिल्‍ली। पूर्व भारतीय नौसैनिक कुलभूषण जाधव को फांसी की सजा सुनाए जाने के मामले में विदेश मंत्रालय ने पाकिस्तान के डिप्टी हाई कमिश्नर मंसूर अहमद खान को तलब किया है। पाकिस्तान की सैन्य अदालत की ओर से भारतीय नौसेना के अधिकारी जाधव को फांसी की सजा सुनाए जाने के बाद से दोनों देशों के बीच तनाव गहरा गया है। भारत ने जाधव को फांसी देने का कड़ा विरोध किया है।

कुलभूषण जाधव को फांसी की सजा

कुलभूषण जाधव को फांसी की सजा के खिलाफ भारत का रुख सख्‍त

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने जाधव को लेकर पाकिस्तान को कड़ी चेतावनी दी थी। उन्होंने कहा था कि जाधव के खिलाफ इतना कड़ा फैसला लेने में पाकिस्तान सावधानी बरतें, वरना उसको इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा। उन्होंने कहा था कि पाक के इस कदम से दोनों देशों के द्विपक्षीय रिश्ते खराब हो सकते हैं। पाकिस्तान जाधव से भारतीय राजनयिक को मुलाकात करने की इजाजत भी नहीं देना चाहता है। वह भारतीय राजनयिक से जाधव की मुलाकात कराने की भारत की मांग को 14 बार खारिज कर चुका है।

पाकिस्‍तान ने लगाया जासूसी का आरोप

इस मामले में पाकिस्तान की दलील है कि यह मामला जासूसी से जुड़ा होने के चलते जाधव तक राजनयिक पहुंच की इजाजत नहीं दी जा सकती है। हालांकि अंतरराष्ट्रीय कानून के तहत दूसरे देश के आरोपी नागरिक को उस देश के राजनयिक से मुलाकात की इजाजत देने का प्रावधान है। ऐसे में पाक अंतरराष्ट्रीय कानूनों की खुलेआम धज्जियां उड़ा रहा है. पाकिस्तान में भारतीय उच्चायुक्त गौतम बंबावाले पाक से जाधव के खिलाफ दाखिल चार्जशीट और फैसले की प्रति उपलब्ध कराने को भी कह चुके हैं। जाधव मसले को लेकर भारत ने पाकिस्तान के साथ सभी तरह की द्विपक्षीय बातचीत पर भी रोक लगा दी है।

loading...
शेयर करें