केंद्र की ये स्कीम उत्तराखंड की सरकार ने चुराई

0

utt-adarsh gram-2

देहरादून। मुख्यमंत्री आदर्श ग्राम योजना के अंतर्गत प्रत्येक ब्लॉक में एक गांव को मुख्यमंत्री आदर्श ग्राम के रूप में चयनित किया जाएगा। आदर्श ग्राम के रूप में ऐसे गावों को चुना जाएगा, जो अपनी आजीविका का वहन कृषि, उद्यान एवं शिल्प आदि कार्यो पर आश्रित हो कर कर रहे हैं। देर शाम हुई बैठक में आदर्श ग्राम योजना के क्रियान्वयन के लिए सीएम ने अधिकारियों को निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि इन गांवों को सड़क से जोड़कर उनके उत्पादों को बाजार में पहुंचाना, दुग्ध के उत्पादन को दुग्ध संघ से जोड़ना और विद्युत, पानी जैसी तमाम मूलभूत सुविधाओं को गांव में उपलब्ध कराना सुनिश्चित करना होगा। सीएम ने कहा कि राज्य सरकार का उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों में सामाजिक और भौतिक अवस्थापना सुविधाओं का विकास कर क्षेत्रीय असंतुलन को दूर करना है।

utt-adarsh gram-3

सीएम ने कहा कि मुख्यमंत्री आदर्श ग्राम योजना की परिकल्पना इस रूप में की जा रही है कि विकास कार्यक्रमों से चयनित ग्रामों को इस प्रकार विकसित किया जाए कि ये अन्य ग्राम पंचायतों के लिए विकास के मॉडल के रूप में उभरकर सामने आएं। आदर्श ग्राम का चयन मुख्य विकास अधिकारी द्वारा किया जाएगा। अगर एक ब्लॉक में एक से ज्यादा गावों का चयन होता है तो इन गावों को आदर्श ग्राम बनाने के लिए क्षेत्रीय विधायक, प्रभारी मंत्री या राज्य सरकार से राय ली जाएगी। सीएम ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि जल्द ही आदर्श ग्राम की गाईड लाईन बनाकर इसे वितरित किया जाए। उन्होंने ये भी कहा कि आदर्श ग्रामों की संख्या अगले वर्ष में बढ़ भी सकती है।

loading...
शेयर करें