केदारनाथ धाम में मिले सात नरकंकाल, DNA सैंपल लेकर किया अंतिम संस्कार

रुद्रप्रयाग। जून 2013 में केदारनाथ धाम में आई आपदा को आजतक कोई नहीं भूल पाया है। उस दर्दनाक मंजर को याद कर आज भी रूह कांप उठती है। ऐसे में इतने साल बाद भी नरकंकाल मिलने का सिलसिला अभी भी जारी है। विशेष सर्च अभियान में केदारनाथ में भैरव मंदिर के पीछे सात कंकाल बरामद किए। इन सभी का डीएनए नमूने लेने के बाद दाह संस्कार कर दिया गया है।

केदारनाथ धाम

केदारनाथ धाम में चार साल पहले आई आपदा में गई थी कई लोगों की जान

2013 में जिस दौरान आपदा आई थी उस दौरान यात्रा अपने चरम पर थी और भारी संख्या में यात्री दर्शन के लिए आ रहे थे। कई दिनों तक लगातार बारिश से बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गए थे। साथ ही जगह- जगह बादल फटने और पहाड़ गिरने से पूरा उत्तरखंड तरह-नहस हो गया था। उसी दौरान लाखों की संख्या में पहुंचे यात्री बुरी तरह फंस गए थे। कई दिनों तक चले रेस्क्यू ऑपरेशन में तकरीबन एक लाख लोगों की जान बचाई गई थी।

हाईकोर्ट के निर्देश पर दोबारा शुरु हुआ अभियान

लेकिन फिर भी कई सौ लोगों की जान चली गई थी। वो बेहद दर्दनाक हादसा था। बड़ी संख्या में लोग मारे गए थे, इनमें से ज्यादातर मलबे में दफन हो गए थे। लेकिन काफी संख्या में लोग अब भी लापता बताए जाते हैं। यहां शवों को तलाशने के लिए कई चक्रों में अभियान चलाने के बाद दो साल पहले राज्य सरकार ने इस पर विराम लगा दिया था, लेकिन इस बीच हाईकोर्ट के निर्देश पर दोबारा से इसे शुरू किया गया।

इसी अभियान के दौरान उत्तरकाशी के पुलिस कप्तानों के नेतृत्व में भैरव मंदिर के पीछे पैदल मार्ग पर सात नर कंकाल मिले। जिनका डीएनए नमूने लेने के बाद दाह संस्कार कर दिया गया है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button