बढ़ सकती हैं मायावती की मुश्किलें, कांशीराम की मौत को अब मुद्दा बनाएगी भाजपा

0

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में आने वाले विधानसभा चुनाओं को देखते हुए सभी राजनीतिक पार्टियों ने अपनी-अपनी तैयारियां शुरू कर दी हैं। एक-दूसरे को चुनाव के इस दंगल में पटखनी देने के लिए रणनीति भी तैयार की जा रही है। भाजपा भी अपने दांव-पेंच के जुगाड़ में लगी है। इसी कड़ी में भाजपा ने बसपा संस्थापक कांशीराम की मौत को मुद्दा बनाने का मन बना लिया है। शायद यही वजह है कि कल भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य कांशीराम की मौत की सीबीआइ जांच की मांग उठा दी है।

केशव प्रसाद मौर्य

केशव प्रसाद मौर्य ने मायावती के साथ साथ अखिलेश पर भी साधा निशाना

एक पत्रकार वार्ता में प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि कई पत्रों के जरिए मुझे बताया गया कि कांशीराम की मौत स्वाभाविक मौत नहीं थी। उन्होंने कहा कि कांशीराम की मौत आज भी सवालों के घेरे में है, इसलिए भाजपा की मांग है कि सपा सरकार सीबीआइ जांच की संस्तुति कर सच सामने लाए।

इतना ही नहीं केशव प्रसाद मौर्य ने एक तीर से दो निशाने साधे हैं। वह कांशीराम की मौत के लिए न सिर्फ मायावती पर हमला कर रहें बल्कि साथ ही साथ मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को भी घेरने के लिए तैयार हैं। बसपा और सपा पर बराबर हमलावर केशव प्रसाद मौर्य  भारतीय सेना की बहादुरी पर घिनौनी सियासत करने वालों को भी निशाने पर लिया है।

सर्जिकल स्ट्राइक पर राहुल गांधी के बयान पर अखिलेश यादव के समर्थन पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि अखिलेश सरकार पहले से ही आतंकवादियों का समर्थन करती आ रही है। इनकी चले तो आतंकियों को परमवीर चक्र दे दें। बाराबंकी में आतंक के आरोपी की मौत के बाद पुलिसकर्मियों पर दर्ज मुकदमे की याद दिलाकर केशव मौर्य ने मुख्यमंत्री को खूब खरी-खोटी सुनाई।

 

 

 

 

loading...
शेयर करें