कैलाश मानसरोवर यात्रा के लिए चीन ने खोला ‘नाथू ला दर्रा’, इस वर्ष 1580 श्रद्धालु करेंगे दर्शन

नई दिल्ली। भरत-चीन के बीच आर्थिक गलियारे को लेकर चल रहा विवाद धीरे-धीरे थमने की कगार पर नजर आ रहे हैं। चीन के विदेश मंत्री वांग यी और भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के बीच चली बातचीत के बाद चीन ने मानसरोवर यात्रा के लिए नाथू ला पास को फिर से खोल दिया  है। ज्ञात हो कि पिछले वर्ष चीन द्वारा नाथू ला पास बंद कर दिए जाने के बाद दोनों देशों के बीच कड़वाहट भर गई थी।

nathula darra

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने मंगलवार को दिल्ली में विदेश मंत्रालय के एक कार्यक्रम में कैलाश मानसरोवर यात्रा पर जाने वालों का नाम कंप्यूटर ड्रॉ में निकाला। इसके बाद से इस साल 1580 श्रद्धालु कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर जाएंगे। इनमें से 500 यात्री नाथू ला के सड़क मार्ग से यहां जाएंगे।

सुषमा स्वराज ने बताया कि यात्रा के लिए नाथू ला पास को फिर से खोल दिया गया है। उन्होंने चीन के विदेश मंत्री से दोनों देशों के संबंधों में बेहतरी लाने की दिशा में काम करने को कहा। उन्होंने कहा, ‘जब तक भारत-चीन के नागरिकों के बीच रिश्ते नहीं सुधरेंगे तब तक दोनों देशों के रिश्ते मधुर नहीं होंगे। मुझे अब यह बताते हुए खुशी हो रही है कि यात्रा के लिए इसे (नाथू ला पास) फिर खोल दिया गया है।’

इस साल 50-50 के टुकड़ियों में यात्रियों के दस बैच नाथू ला पास से होकर मानसरोवर यात्रा पर जाएंगे। वहीँ 1080 श्रद्धालु 60-60 के दल में 18 बैच में पारंपरिक लिपुलेख दर्रे मार्ग से कैलाश मानसरोवर यात्रा पर जाएंगे।

Related Articles