देखिए हैलट की धरती के ‘भगवानों’ की हैवानियत

doctor-stethoscope-628x363कानपुर। क्या शहर के इस बड़े अस्पताल का यही हाल रहेगा। कोई भी जिम्मेदार इसकी सुध नहीं लेगा। दो दिन पहले पार्टी मनाने के लिए नाली के पास मरीजों को लिटाने वाले डॉक्टर ने एक मरीज को कूड़े के ढेर पर लिटा दिया। उसे चादर से ऐसे ढक दिया जैसे वह मर चुका हो। जब मीडिया कर्मी पहुंचे तब उसे वार्ड में भर्ती किया गया, लेकिन इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

ये भी पढ़ें : ‘ये भगवान’ तो इंसान कहलाने के लायक नहीं

हैलट इमरजेंसी की सीढ़ियों के पास सर्जिकल वेस्ट(कूड़ा) फेंका जाता है। वहां पर डॉक्टरों ने एक वृद्ध को स्ट्रेचर समेत छिपा दिया। वृद्ध के कई जख्म थे जिससे वह कराह रहा था। वृद्ध की आवाज सुन लोग इकट्ठा हो गए। कई मीडिया कर्मी भी मौके पर पहुँच गए।

उधर सूचना मिलने पर पहुंचे ईएमओ ने काफी जोर देकर जूनियर डॉक्टरों से भर्ती कराया। डॉक्टरों ने उसे भर्ती किया और फिर वार्ड 6 में शिफ्ट कर दिया लेकिन वहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। अब एक बार फिर जिम्मेदार जांच की बात कह रहे हैं।

ये भी पढ़ें: पार्टी देने के लिए मरीजों को नाली के पास लिटा दिया

पहले भी हो चुके है कई मामले 

कुछ दिन पहले एक ही परिवार के तीन लोगों की हादसे में मौत का दर्द समेटे पीड़ित जब हैलट अस्पताल पहुंचे तो उन्हें उन भगवानों से पाला पड़ा जो सही मायने में इंसान भी नहीं बन सके हैं। घायल का इलाज जल्दी करने की बात कहने की सजा ऐसी मिली कि उनकी पिटाई तो हुई ही बल्कि घायल की भी जान चली गई। एक ही घर में हुई चार मौतों के बाद भी इन भगवानों में कतई इंसानियत नहीं दिखी। पीड़ितों के साथ मारपीट के बाद हड़ताल भी कर दी। जो दूसरे मरीजों के लिए भी घातक हो गई।

 

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button