कोरोना वैक्सीन को लेकर जल्द आ सकती है खुशखबरी…

ब्रिटेन ने कोरोना वायरस की एक और वैक्सीन तैयार कर ली है जिसका ट्रायल बहुत जल्द इंसानों पर किया जाएगा. वैज्ञानिकों का कहना है कि इंसानों पर वैक्सीन का प्रयोग सफल रहा तो इसकी डोज़ 300 रुपये से भी कम में लोगों को मिल सकेगी. कोरोना की मार झेल रहे देशों की सूची में ब्रिटेन भारत के बाद पांचवें स्थान पर है.

इंपीरियल कॉलेज ऑफ लंदन के वैज्ञानिकों ने कहा, ‘हमें उम्मीद है कि इंसानों पर वैक्सीन ट्रायल के पहले चरण की मंजूरी उन्हें जरूरी मिलेगी. इस दौरान वे देखेंगे कि उनकी यह वैक्सीन इंसानों के लिए कितनी सुरक्षित है.’

वैक्सीन बनाने वाले समूह के इंचार्ज प्रोफेसर रॉबिन शेटॉक का कहना है, ‘हमारी टीम चाहती है कि लोगों को एक सस्ती और सुरक्षित वैक्सीन मिल सके. ताकि ब्रिटेन में कोरोना वायरस की पॉजिटिव आबादी को 20 अरब से कम लागत में ठीक किया जा सके.’

उन्होंने कहा कि इंपीरियल कॉलेज के पास इस प्रोजेक्ट पर खर्च करने के लिए पर्याप्त पैसा है. इस पैसे से वो यूनाइटेड किंगडम हेल्थ सर्विस (एनएचएस) और सोशल केयर वर्कर्स के लिए आसानी से वैक्सीन बना सकते हैं.

उनका कहना है कि वैक्सीन के ह्यूमन ट्रायल की मंजूरी मिलने के बाद यदि कामयाबी मिली तो हम अगले चरण में करीब 6,000 लोगों पर इसे टेस्ट करेंगे. हालांकि प्रोफेसर शेटॉक ने यह भी कहा कि प्लान के मुताबिक सब सही रहा तो भी ये वैक्सीन 2021 से पहले उपलब्ध नहीं हो सकेगी.

बता दें कि कोविड-19 का ब्रिटिश वैज्ञानिकों द्वारा बनाई गई यह दूसरी वैक्सीन है. इससे पहले ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने इसकी पहली वैक्सीन बनाई थी, जो कि अब तक की सबसे प्रभावी वैक्सीन्स में शुमार है.

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की वैक्सीन डॉक्टर सारा गिल्बर्ट के नेतृत्व में तैयार किया गया है. सारा गिल्बर्ट का दावा है कि अगर ट्रायल पीरियड में सब सही रहा तो इसी साल सितंबर के महीने तक लोगों को कोरोना वायरस की वैक्सीन मिल जाएगी.

प्रोफेसर शेटॉक ने ये भी बताया कि वैक्सीन का निर्माण करने के लिए उन्हें ब्रिटिश सरकार से 50 लाख डोज़ तैयार करने के लिए पैसा मिला है. इतने पैसे से तकरीबन 25 लाख लोगों के लिए दवा तैयार की जा सकती है.

Related Articles