खड़ी और बैठकी होली में दिख रहे कुमाऊं की संस्कृति के कई रंग

0

नैनीताल/खटीमा। रंगों का पर्व होली पूरे देश में धूमधाम और हर्षोल्लास से मनाया जाता है। लेकिन कुमाऊं की खड़ी होली का अपना ही अलग रंग है। गौरवशाली इतिहास समेटे पहाड़ की होली के ऐसे ही अद्भुत और विविध रंग कुमाऊं की खड़ी और बैठकी होली में ही देखे जाते हैं। ढोल की थापों और विभिन्न रागों पर झूमने के साथ खड़ी और बैठकी होली में गौरवशाली इतिहास का वर्णन किया जाता है तो होल्यार भी इसके अनूठे रंगों में रंग जाते है। आधुनिकता और विकास की दौड़ के चलते पिछले कुछ सालों में रीति रिवाज और परंपराओं में काफी बदलाव आए लेकिन खड़ी और बैठकी होली इससे दूर ही है और किसी को भी बरबस आकर्षित कर लेती है।

ये भी पढ़ें – सबका एक ही सवाल…’होली कब जलेगी’ ?

खड़ी और बैठकी होली 3

खड़ी और बैठकी होली का चढ़ रहा रंग

पूरे कुमाऊं में इन दिनों खड़ी और बैठकी होली कहीं भी देखी जा सकती है। देश भर में खेली जाने वाली होली से कई मायनों में अलग खड़ी होली शिवरात्री के बाद चीर बंधन के साथ शुरू होती है जो छलडी तक चलती है। मंदिर से शुरू हुई इस होली में होल्यार गांव के हर घर में जाकर होली के विभिन्न रागों का गायन करते हैं। सदियों से चली आ रही ये परंपरा मौजूदा समय में भी कुमाऊं के महत्व को बताने के लिए काफी है। बता दें कि कुमाऊं की खड़ी होली का इतिहास 400 साल से ज्यादा पुराना है। ढोल की थाप के साथ ही कदमों की चहल कदमी और राग-रागिनियों का समावेश इस खड़ी होली में होता है। कुमाऊं में खासतौर पर चंपावत, पिथौरागढ़, अल्मोड़ा, नैनीताल और बागेश्वर में इस होली का आयोजन किया जाता है। राग दादरा और राग कहरवा में गायी जाने वाले इस होली के गायन पक्ष में कृष्ण राधा, राजा हरिशचन्द्र, श्रवण कुमार समेत रामायण और महाभारत काल की कई गाथाओं का भी वर्णन होता है।

 
ये भी पढ़ें – अब पाकिस्तान में भी होली, दीवाली पर होगी छुट्टी

खड़ी और बैठकी होली 2

बैठकी होली में महिलाएं बिखेर रही विविध रंग

कुमाऊं में खड़ी होली के साथ ही महिलाओं की बैठकी होली का दौर भी जारी है। होली गायन के साथ ही महिलाओं की टोलियां रंग जमाने लगी हैं। इस दौरान महिला होल्यार विभिन्न प्रकार के स्वांग रचकर कई प्रकार के आकर्षक नृत्य भी करती हैं। महिला होल्यारों की टोलियां भी घर-घर जाकर बैठकी होली कर रही हैं। खड़ी और बैठकी होली की ये धूम होली तक जारी रहने वाली है। इसलिए अगर आपको भी खड़ी और बैठकी होली के रंगों से सराबोर होना है तो आप भी जल्द से जल्द कुमाऊं जाइए और लीजिए होली का मजा।

loading...
शेयर करें