खून से लिखकर मांगा इंसाफ, सीएम अखिलेश ने पूरी की मुराद

1

लखनऊ। सीएम अखिलेश यादव को खून से लेटर लिखने वाली बुलंदशहर की दो बेटियों की मदद करने का ऐलान किया है। बुलंदशहर की इन बेटियों ने अपनी मां के हत्यारे पिता को सजा दिलाने के लिए अखिलेश यादव से खून की चिट्ठी लिखकर सिफारिश की थी। इन बेटियों ने चिट्ठी में लिखकर बताया कि उनके सामने उनके पिता ने उनकी मां को जिंदा जला दिया। उन्होंने बताया कि उनके पिता ने ऐसा इस किया क्योंकि उनकी मां ने बेटे को जन्म नहीं दिया। इस घटना को दो महीने पुरे हो चुके हैं। इस घटना के बाद जो कार्रवाई की गई थी उससे दोनों लड़कियां खुश नही थी। इसलिए उन्होंने मुख्यमंत्री को चिट्ठी लिखी थी। बुलंदशहर की ये बेटियां चाहती हैं कि मुख्यमंत्री उनकी मां की जान लेने वालों को सख्त से सख्त सजा दिलवायें।

खून की चिट्ठी

ये खबर वायरल होते ही पुलिस अधिकारी पीड़ित परिवार से मिलने पहुंचे। साथ ही पीड़ित परिवार ने सीएम अखिलेश यादव से शनिवार को मुलाकात की। मुख्यमंत्री ने मामले में सख्त से सख्त कार्रवाई का आश्वसन दिया साथ ही बेटियों को रहने के लिए आवास, 10 लाख रुपये की आर्थिक मदद और मामा को सरकारी नौकरी देने की घोषणा की।

जानकारी के मुताबिक बुलंदशहर नगर कोतवाली क्षेत्र के मोहल्ला देवीपुरा की रहने वाली अन्नू बंसल की शादी सन 2000 में चांदपुर के रहने वाले मनोज बंसल से हुई थी। शादी के बाद अन्नू ने दो बेटियों को जन्म दिया। बेटियां लतिका और तान्या इस वक्त 14 और 10 साल की हैं। इतनी छोटी सी उम्र में उनके पिता ने ही उनके सिर से मां का साया छीन लिया और वो भी केवल इसलिए क्योंकि उनकी मां बेटे को जन्म ना दे सकी।

बीते महिने 14 जून को लतिका और उसकी छोटी बहन तान्या के सामने उनकी मां को मिट्टी का तेल छिड़ककर जला दिया गया। दो दिन बाद अन्नू की अस्पताल में मौत हो गई।

अन्नू के मायकेवालों ने उसके पति समेत आठ लोगों के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज करवाई लेकिन पुलिस ने आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में मनोज बंसल को गिरफ्तार कर जेल भेजा था।

लतिका बताती है ‌कि वह अपने मामा के साथ सभी रैंक के अफसरों से मिल चुकी हैं लेकिन उन्हें न्याय नहीं मिला। आखिरकार दोनों बहनों ने खून से चिट्ठी लिखकर सीएम से गुहार लगाई।

loading...
शेयर करें