गणतंत्र दिवस परेड में शामिल हुए वीरता पुस्कार जीतने वाले बच्चे

0

नई दिल्ली। राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार जीत चुके बच्चों ने गुरुवार को राजपथ पर आयोजित 68वें गणतंत्र दिवस के मुख्य समारोह में हिस्सा लिया। प्रत्यक्षदर्शियों ने उनका उत्साहवर्धन किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के विभिन्न हिस्सों से 25 बच्चों को सोमवार को राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार प्रदान किए थे। इनमें से चार बच्चों को मरणोपरांत ये पुरस्कार दिए गए।

गणतंत्र दिवस

गणतंत्र दिवस की पूरे देश में धूम 

वीरता पुरस्कार जीतने वाले बच्चों में उत्तराखंड से 15 साल का सुमित ममगेन भी था, जिसने अपने रिश्तेदार को बचाने के लिए तेंदुए से लड़ाई लड़ी। राजस्थान से नौ साल के सोनू माली ने अपनी कक्षा के एक साथी को चार फुट लंबे काले कोबरा से बचाया। दार्जिलिंग से तेजस्वीता प्रधान और शिवानी गोंड ने अंतर्राष्ट्रीय सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ करने में पुलिस और एक एनजीओ को मदद दी। उनकी साहस की बदौलत ही इस सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ हो सका और इसके मास्टरमाइंड की गिरफ्तारी दिल्ली में हुई।

चार बच्चों को मरणोपरांत यह पुरस्कार दिया गया। इसमें अरुणाचल प्रदेश की चार साल की तारह पेजु भी है, जो अपने दो दोस्तों को डूबने से बचाने की कोशिश के दौरान अपनी जान से हाथ धो बैठी। मिजोरम की लालहरीयतपुई ने अपने रिश्तेदार को कार दुर्घटना से बचाने के लिए अपनी जान दे दी।

छत्तीसगढ़ के तुषार वर्मा पड़ोसी के घर में लगी आग बुझाने में मदद करते हुए जान से हाथ धो बैठे। मिजोरम की रोलुआपुई भी दो बच्चों को डूबने से बचाने की जद्दोजहद में जिंदगी की जंग हार गई। भारतीय बाल कल्याण परिषद (आईसीसीडब्ल्यू) ने 1957 में राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार योजना शुरू की थी, जिसका उद्देश्य अदम्य साहस का परिचय देने वाले बच्चों को पुरस्कृत करना है।

loading...
शेयर करें