गुलबर्ग सोसाइटी मामले मे 17 को सुनाई जाएगी दोषियों को सजा

0

गुजरात। गुजरात दंगों के दौरान गुलबर्ग सोसाइटी हत्याकांड के 24 दोषियों की सजा पर फैसला सोमवार को भी टल गया। अहमदाबाद की विशेष अदालत अब 17 जून को सजा का ऐलान करेगी। कोर्ट ने इस मामले में 36 लोगों को बरी किया था। पहले 6 जून को  सजा का ऐलान  होना था लेकिन कोर्ट ने जिरह पूरी न हो पाने की वजह से बाद में फैसला सुनाने के लिए 9 जून की तारीख तय की थी। हालांकि उस दिन भी सजा का ऐलान नहीं किया जा सका।

गुलबर्ग सोसाइटी हत्याकांड

 

गोधरा दंगों के दौरान हुआ गुलबर्ग सोसाइटी कांड

पिछली दो सुनवाइयों में सजा सुनाने से पहले कोर्ट ने दोनों पक्षों के वकीलो की अंतीम दलीलें सुनी थीं, जिसमें सरकारी वकील और पीड़ितों के वकील ने दोषियों को ज्यादा से ज्यादा सजा सुनाने की अपील की थी, जबकि दोषियों के वकील ने कम से कम सजा देने की मांग की।

गुजरात में फरवरी 2002 में गोधरा दंगों के दौरान हुए गुलबर्ग सोसाइटी कांड में कांग्रेस के पूर्व सांसद एहसन जाफरी सहित 69 व्यक्ति मारे गए थे। विशेष न्यायाधीश पी बी देसाई की अदालत ने कहा कि मामले के दोषियों को सजा की मात्रा के बारे में 17 जून को ऐलान किया जाएगा। इससे पहले अदालत ने 24 दोषीयों के जेल में बिताये गये समय का ब्यौरा मांगा था।

साल 2009 में शुरू हुई  गुलबर्ग सोसाइटी हत्याकांड की सुनवाई

अदालत ने दो जून को इस मामले में हत्या और अन्य अपराधों के लिए 11 व्यक्तियों को दोषी ठहराया जबकि विहिप नेता अतुल वैद्य सहित 13 अन्य पर कम गंभीर अपराधों के आरोप लगाए। साथ ही अदालत ने मामले में 36 अन्य लोगों को बरी कर दिया। दोनों पक्षों, बचाव पक्ष के वकीलों और पीड़ितों के वकीलों की दलीलों पर विचार करने के बाद पिछले सप्ताह शुक्रवार को अदालत ने सजा की मात्रा का ऐलान करेगी।

इस मामले की सुनवाई कांड के सात साल के 2009 में शुरु हुई थी। सुनवाई के शुरूवात में कुल 66 आरोपी थे। जिसमें चार की मौत पहले ही हो चुकी है। कोर्ट ने 36 आरोपियों को रिहा कर दिया था।

 

 

 

loading...
शेयर करें