भारत के बैडमिंटन कोच को लगता है खिलाडियों का भविष्य उज्जवल

0

नई दिल्ली| योनेक्स इंडिया ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट में भारत के पुरुष और युगल खिलाड़ियों का प्रदर्शन काफी निराशाजनक रहा। पुरुष एकल में सिर्फ समीर वर्मा ही क्वार्टर फाइनल में पहुंच सके। इसके बावजूद भारतीय टीम के मुख्य कोच पुलेला गोपीचंद को खिलाड़ियों का भविष्य उज्जवल लगता है। गोपीचंद का मानना है कि भारतीय खिलाड़ी युवा हैं और उनका भविष्य उज्जवल है, हालांकि उन्हें परिपक्व होने में समय लगेगा।

बैडमिंटन से जुड़ी खेल सामग्री बनाने वाली प्रमुख कम्पनी योनेक्स इंडिया द्वारा ‘मेक इन इंडिया’ अभियान के तहत बेंगलुरू में भारत में पहली फैक्टरी की शुरूआत की घोषणा के लिए आयोजित संवाददाता सम्मेलन में गोपीचंद ने कहा, “आज की तारीख में हमारे पास पुरुष एकल में शीर्ष-30 में कुछ अच्छे खिलाड़ी हैं, जो अच्छा खेल रहे हैं पर यहां पर परिणाम देखे तो समीर और सौरव (वर्मा) के दो ऐसे मैच थे वह बढ़त लेकर हारे।”

पुलेला गोपीचंद

गोपीचंद ने कहा- मुल्यो होंडोयो हैं काफी अनुभवी कोच

उन्होंने कहा, “इसकी दो-तीन वजह है, लेकिन सभी खिलाड़ियों का प्रदर्शन देखा जाए तो श्रीकांत (किन्दांबी), प्रणॉय (एचएस), समीर, सौरव यह सभी युवा खिलाड़ी हैं इनका भविष्य अच्छा है। भारतीय खिलाड़ियों को परिपक्व होने में समय लगता है इसलिए मैं मानता हूं कि यह लोग आगे अच्छा प्रदर्शन करेंगे।”

युगल खिलाड़ियों के प्रदर्शन पर गोपीचंद ने कहा, “युगल की बात है तो शीर्ष-15 में प्रणब (चोपड़ा) और सिक्की (रेड्डी) हैं। पुरुष युगल में जूनियर में सात्विक (रेड्डी) और चिराग (सेठी) ने पिछले सप्ताह ही वियतनाम ओपन जीता था। काफी जूनियर खिलाड़ी भी निकल कर आ रहे। यह आसान बात नहीं है। हम सही दिशा में जा रहे इसमें समय लगेगा और फिर जो परिणाम महिला एकल में आए हैं वह पुरुष एकल में आएंगे।”

गोपीचंद से जब पूछा गया कि क्या भारतीय खिलाड़ियों में कोर्ट पर आक्रामकता की कमी है तो उन्होंने कहा, “आप हर खिलाड़ी के बारे में ऐसा नहीं कह सकते। मेरा मानना है कि कुछ मैच काफी करीब थे। श्रीकांत ने अच्छा मुकाबला खेला है।”

उन्होंने कहा, “श्रीकांत या समीर ने पिछले कुछ मैचों में आक्रामकता के साथ खेला है। मेरा मानना है कि है हमने अच्छा प्रदर्शन किया है और एक-दो बुरे प्रदर्शन से आप कोई फैसले पर नहीं पहुंच सकते। लेकिन यह भी एक क्षेत्र है जहां हमें काम करना है।”

भारतीय खिलाड़ियों की फिटनेस हमेशा से चर्चा का विषय रही है। सायना नेहवाल घुटने की चोट से कारण बीते दिनों परेशान रहीं। पारुपल्ली कश्यप भी चोट से जूझ रहे हैं। गोपीचंद ने खिलाड़ियों कि फिटनेस को लेकर कहा, “हमने ओवरऑल जांच की है। अभी नए फिटनेस कोच इंडोनेशिया के मुल्यो होंडोयो आए हैं। वह काफी अनुभवी कोच हैं, हम उनकी भी मदद ले रहे हैं। इस पर भी काम जारी है।”

loading...
शेयर करें