इस गोरक्षक को दुनिया कर रही है सलाम

0

गोरक्षादेहरादून इन दिनों देश में गोरक्षा को लेकर काफी हिंसा भड़क रही है। जिसे देखते हुए पीएम मोदी ने एक बयान दिया। जिसके बाद विहिप ने मोदी के बयान की काफी आलोचना की। वहीं देहरादून की एक महिला ने पूरे देश के लोगों को ये सिखा दिया कि गाय की रक्षा किस तरह करना चाहिए।

गोरक्षा के लिए किया बड़ा काम

देहरादून की नमिता नारायण ने लोगों को ये सिखा दिया कि गोरक्षा के नाम पर हिंसा करने की जरुरत नहीं है। गायों के प्रति अपना जीवन समर्पित करने वाली नमिता नारायण का कहना है कि वे इस दुनिया से विदा होने से पहले अपनी संपत्ति की वसीयत में गायों के संरक्षण के लिए एक हिस्सा निर्धारित करेंगी।

ऐसे में गो सेवा को अपने जीवन का लक्ष्य बनाने वाली नमिता की चर्चा मौजू है। उन्होंने चालीस साल पहले घर में गो सदन की स्थापना की और अब तक सौ से अधिक गायों और गोवंश का लालन-पालन कर चुकी हैं।

कानून की उच्च शिक्षा प्राप्त करने के बावजूद नमिता ने न वकालत की न ही नौकरी। वह गायों की सेवा में इतनी लीन हो गईं कि उन्होंने विवाह तक नहीं किया।

अब नमिता 70 साल की हैं जीवन की सांझ में भी अपने दत्तक पुत्र शिवम के साथ गायों की देखभाल में कोई कमी नहीं आने देती। नमिता नारायण का कहना है कि वे अपनी वसीयत में गायों के संरक्षण के लिए एक हिस्सा निर्धारित करेंगी।

जिससे उस धनराशि से उनके द्वारा बनाए गए सदन में गायों का संरक्षण होता रहे। नमिता के पिता बाल कृष्ण कोठारी नारायण महान कवि, लेखक वित्त मामलों के जानकार थे।

loading...
शेयर करें