रोजगार सेवकों ने दिया घरना, पुलिस ने 20 हजार लोगों को किया गिरफ्तार

0

लखनऊ। यूपी के विभिन्न जिलों से ग्राम पंचायतों में कार्यरत ग्राम रोजगार सेवकों ने नियमित राज्य कर्मचारियों का दर्जा देने की मांग को लेकर ब्लॉक मुख्यालय पर प्रदर्शन कर अनिश्चितकालीन के अनशन शुरू किया है। ये कर्मचारी राज्य कर्मचारी का दर्चा दिए जाने की मांग के लिए विधानसभा का घेराव करने पहुंचे। प्रशासन ने उन्हें जिले के अंदर से पहले ही रोक लिया। इस दौरान पुलिस ने हजारों लोगों को गिरफ्तार करके रमाबाई अंबेडकर मैदान में बनाई गई अस्थाई जेल में रखा है।

ग्राम रोजगार सेवकों

ग्राम रोजगार सेवकों की राज्य सरकार के खिलाफ नारेबाजी

प्रदेश सरकार के ढीले रवैये के खिलाफ जनपद के सैकड़ों रोजगार सेवकों ने काली पट्टी बांधकर राज्य सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। उन्होंने कहा कि पिछले नौ साल से ग्राम रोजगार सेवक प्रशासनिक सहायक के रूप में संविदा पर कार्यरत हैं। रोजगार सेवकों की मांग है कि उन्हें भी नियमित कर वेतन दिया जाए।

उत्तर प्रदेश ग्राम रोजगार सेवक संघ लखनऊ के आह्वान पर जिले के विभिन्न ब्लाकों से आए रोजगार सेवकों ने कलेक्ट्रेट परिसर में काली पट्टी बांधकर विशाल धरना प्रदर्शन किया। इस दौरान रोजगार सेवकों ने कहा कि हमें राज्य कर्मचारी का दर्जा दिया जाए।

ग्राम रोजगार सेवक नौ साल ले संविदा पर कार्यरत

जिलाध्यक्ष जमाल अख्तर ने कहा कि हम विगत नौ वर्षों से ग्राम रोजगार सेवक प्रशासनिक सहायक के रूप में संविदा पद पर कार्यरत है। मनरेगा योजना अंतर्गत चयनित रोजगार सेवकों के संबंध में भारत सरकार ने भी स्पष्ट किया है कि इनके ऊपर राज्य सरकारों का पूरी तरह शासकीय नियंत्रण होगा और राज्य कर्मचारी कहे जाएंगे।

सोहांव ब्लाक के संरक्षक हेमंत राय ने कहा कि यह रोजगार सेवकों का खुला मजाक है। इन्हीं सब मांगों को लेकर 20 अगस्त को लखनऊ के लक्ष्मण मेला मैदान में विशाल धरना एवं महा रैली किया जाएगा।

 

loading...
शेयर करें