घाघरा खतरे के निशान से ऊपर, एनडीआरएफ की टीम बुलाई गई

0

बहराइच।  पहाड़ों पर हो रही बारिश के चलते पिछले तीन दिनों से यहां लगातार घाघरा का जलस्तर बढ़ता जा रहा है। खौफनाक बनी लहरों से तटवर्ती बाशिंदों की मुसीबतें बढ़ गई हैं। नदी का जलस्तर खतरे के निशान से 33 सेंटीमीटर ऊपर बह रहा है।

लागतार बढ़ रहे जलस्तर को देखते हुए प्रशासन ने एनडीआरएफ को सूचना दे दिया है। सूचना मिलते ही एनडीआरएफ टीम बहराइच के लिए रवाना हो गई है। अपर जिलाधिकारी ने बताया कि एनडीआरएफ की टीम लखनऊ पहुंच चुकी है।

घाघरा का जलस्तर

घाघरा का जलस्तर बढ़ा

निचले सतह पर बसे लगभग एक दर्जन से अधिक गांव बाढ़ के पानी से घिर गए हैं। नदी दो सेंटीमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से बढ़ रही है। प्रशासन द्वारा बाढ़ क्षेत्र के ग्राम वासियों को अलर्ट कर दिया गया है।

लगातार तीन दिनों से बढ़ रही घाघरा की लहरें भयावह बन गई हैं। बाढ़ के पानी ने निचले स्तर पर बसे गांव कायमपुर, जर्मापुर, टेपरी, कहारनपुरवा, कोठार, नगेसरपुरवा, राठौरनपुरवा, जोगापुरवा, तारापुरवा, जुगुलपुरवा, छत्तरपुरवा, घूरदेवी, ककरहिया, बहोरवा, भौंरी, सिपहियाहुलास, चरीगाह सहित डेढ़ दर्जन गांवों को चपेट में ले लिया है।

घूरदेवी में नदी का जलस्तर खतरे के निशान से 33 सेंटीमीटर ऊपर है। कई संपर्क मार्गों पर पानी बह रहा है जिससे लोगों को आवागमन में दिक्कतें हो रहीं हैं। लोगों का कहना है कि यदि जलस्तर और बढ़ा तो स्थिति भयावह हो सकती है।

एसडीएम ने किया मुआयना

महसी गांवों में बाढ़ का पानी भर जाने के बाद हो रही बारिश ने परेशानी और बढ़ा दी है। कटान के मुहाने पर बसे तटवर्ती गांवों के लोगों को गृहस्थी समेटने में भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। गोलागंज निवासी दीनानाथ सिंह, रामफेरन सिंह, अवधेश सिंह सहित आधा दर्जन ग्रामीणों के आशियाने कटान के मुहाने पर आ गए हैं।

लोग अपने आशियाने उजाड़ कर घर गृहस्थी का सामान समेट सुरक्षित स्थान पर शरण ले रहे हैं। तोड़ रहे आशियानों की ईंटों को तटबंध तक पहुंचाने के लिए नाव ही सहारा बचा है।

एसडीएम एसपी शुक्ला ने तहसीलदार उमाशंकर त्रिपाठी के साथ घूरदेवी, छत्तरपुरवा, तारापुरवा, बौंड़ी, गोलागंज, कायमपुर, पिपरी गांव पहुंच बाढ़ की स्थिति का मुआयना किया।

एसडीएम ने बताया कि बाढ़ चौकी प्रभारियों को अलर्ट कर दिया गया है। नाविकों को भी नावों के साथ बाढ़ बचाव के निर्देश दिए गए हैं। क्षेत्रीय लेखपालों को गांवों में कैंप करने के निर्देश दिए गए हैं। गोलागंज, कायमपुर, पिपरा, पिपरी और सिपहियाहुलास में बचाव के लिए नावों की संख्या बढ़ाई गई है।

बाढ़ से निपटने के लिए 325 नावें मंगाई गई

दूसरी तरफ सरयू परियोजना प्रथम फैजाबाद नवम मंडल के मुख्य अभियंता भानु प्रताप सिंह ने अधीक्षण अभियंता काजिम अली, अधिषासी अभियंता एमएल सचान के साथ घूरदेवी व बौंड़ी स्थित घाघरा तट पर बने कटान निरोधक स्पर व स्टड का निरीक्षण किया। उन्होंने स्पर, स्टड व तटबंध की सुरक्षा के लिए संबंधित आवश्यक दिशा निर्देश दिए।

अपर जिलाधिकारी विद्याशंकर सिंह ने बताया कि बाढ़ से निपटने की पूरी तैयारियां कर ली गई हैं। बाढ़ से निपटने के लिए 325 नावें मंगाई गई है। 26 बाढ़ चौकियां बनाई गई हैं।

महसी एसडीएम एसपी शुक्ला ने बताया कि बाढ़ से संबंधित सूचनाओं के आदान-प्रदान के लिए तहसील कार्यालय पर कंट्रोल रूम की स्थापना की गई है। कोई भी व्यक्ति बाढ़ से संबंधित सूचना कार्यालय के फोन नंबर 05255-272281 पर दे सकता है। कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है। आपात स्थितियों में उनके मोबाइल पर भी सूचना दे सकते हैं।

 

loading...
शेयर करें