फिर यूपी हुआ शर्मसार : मेरठ में चलती कार में गैंगरेप कर महिला को कब्रिस्तान में फेंका

0

मेरठ। यूपी में गैंगरेप की घटनाएं बढ़ती जा रही है। अब तो इलाहाबाद हाईकोर्ट ने भी ये ऐलान कर दिया है कि यूपी में महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं। बुलंदशहर गैंगरेप के बाद अब एक और गैंगरेप का मामला सामने आया है।  जहां आरोपियों ने बीच शहर में सुबह 7.30 बजे एक महिला को अगवा कर चलती कार में उसके साथ रेप किया उसके बाद उसे कब्रिस्तान के पास फेक कर फरार हो गए।

चलती कार में गैंगरेप

चलती कार में गैंगरेप के बाद महिला को कब्रिस्तान में फेक आरोपी फरार

ये घटना मेरठ के शास्त्रीनगर के ब्लॉक चौकी के पास की है। शुक्रवार सुबह 7:30 बजे लोहियानगर इलाके की एक महिला अपनी 13 साल की बेटी के साथ तेजगढ़ी चौराहे पर डॉक्टर के पास जा रही थी। तभी वहां पीवीएस मॉल से चंद कदम दूर के ब्लॉक पुलिस चौकी के पास सफेद रंग की कार रुकी और चार युवकों ने उसे अगवा कर लिया, जबकि उसकी बेटी आरोपियों के चंगुल से छूटकर भाग गई। महिला का आरोप है कि तीन लोगों ने उसका रेप किया औरउसके बाद करीब 11:30 बजे बेहोशी की हालत में मेघदूत पुलिया स्थित कब्रिस्तान के पास फेंककर फरार हो गए। महिला को होश आया तो वह अपनी बेटी को तलाशने लगी। कार में आरोपी कचहरी जाने की बात कर रहे थे, तो महिला बेटी को तलाशते हुए वहीं पहुंच गई।

महिला ने पुलिसवालों से कहा, मेरी बेटी को बचा लो 

बेटी की तलाश के दौरान महिला ने कचहरी-बेगमपुल पर उन चार आरोपियों में से एक आरोपी को देखा तो उसे पकड़ लिया। महिला और आरोपी में छीनाझपटी देख मेरठ कॉलेज के छात्रों की भीड़ लग गई। पीड़िता ने बताया कि उसके साथ गैंगरेप कर उसकी बेटी को अगवा कर लिया गया है। इस पर छात्रों ने आरोपी की धुनाई कर दी। सूचना पर लालकुर्ती पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस महिला और आरोपी को थाने ले गई।

थाने पहुंचकर महिला ने पुलिस को अपनी आपबीती बताई।  महिला बार-बार चिल्ला रही थी कि आरोपी उसकी बेटी को उठाकर ले गए हैं, उसे बचा लो। एसओ लालकुर्ती ने मामला मेडिकल थाने का बताकर वहां की पुलिस को बुलाया। जिसके बाद महिला को घटनास्थल पर ले जाया गया तो मामला नौचंदी थाने का निकला। बाद में महिला को मेडिकल के लिये अस्पताल भेजा गया।

‘मां को कार में ले गए लेकिन मैं भाग गई’ 

महिला की बच्ची करीब तीन बजे जेल चुंगी से मिली। उसने जेल चुंगी पुलिस चौकी पर आपबीती सुनाई। इसके बाद पुलिस ने बच्ची को नौचंदी थाने मेें भेजा। बच्ची का कहना है कि उसकी मां को कार में अगवा किया तो वह वहां से भाग गई थी। दो लोगों ने उसका पीछा किया था, लेकिन वह बच निकली।

पुलिस ने तोड़ा हाईकोर्ट का नियम

गैंगरेप पीड़िता के बयान मेडिकल थाने केे दो दरोगा ने दर्ज किये। दोनों दरोगा ने हाईकोर्ट के आदेश का पालन नहीं किया जिसमें कहा गया है कि पीड़िता का बयान सिर्फ महिला पुलिस ही ले सकती है। इससे बेफिक्र दोनों दरोगा लालकुर्ती थाने में पीड़िता की आपबीती सुनते रहे और महिला कांस्टेबल दूर खड़ी देखती रही। बेबस पीड़िता दोनों को खुद के साथ हुई हैवानियत  के बारे में बताती रही।

दाल में कुछ काला है 

पुलिस ने गिरफ्तार आरोपी समेत मइनुद्दीन, आसिफ और दो अज्ञात लोगों के खिलाफ गैंगरेप का केस दर्ज किया है। इंस्पेक्टर नौचंदी हरशरण शर्मा ने बताया, महिला का रिकार्ड देखा जा रहा है। उसने पहले पति को छोड़कर एक ट्रक ड्राइवर से निकाह किया है। महिला के भाई ने भी कोई जानकारी न होने की बात कही। उसका पति देररात तक थाने नहीं पहुंचा था। वहीं, गिरफ्तार आरोपी कह रहा है कि तीन साल पहले उसकी बहन से गैंगरेप हुआ था। समझौते का दबाव बनाने के लिये आरोपी उसे फंसा रहे हैं।

पीड़िता और उसकी बेटी का मेडिकल परीक्षण कराया गया है। मां-बेटी की शिकायत पर केस दर्ज कर लिया है। लेकिन, आरोपी ने पूछताछ में ऐसी बातें बताई हैं, जिससे गैंगरेप की वारदात के पीछे साजिश लग रही है। पुलिस बारीकी से जांच में लगी है।

loading...
शेयर करें