चार धाम प्रोजेक्ट क्यों है इतना खास, डालें एक नजर

0

देहरादून। पीएम मोदी मंगलवार को उत्‍तराखंड में खूब गरजे। उन्‍होंने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि इस बार कालाधन और कालामन दोनों बाहर आएंगे। उन्‍होंने रैली करने से पहले वहां चार धाम प्रोजेक्ट का शिलान्‍यास किया।

चार धाम प्रोजेक्ट

आइये डालते हैं एक नजर चार धाम प्रोजेक्ट पर

चार धाम प्रोजेक्ट वही है जो सीधे तौर पर देश के तमाम ऐसे लोगों से जुड़ा है जो उत्तराखंड में चारधाम यात्रा के लिए आते हैं। पीएम मोदी ने खुद मंगलवार सुबह ट्वीट कर बताया कि उत्तराखंड में जिन प्रोजेक्ट का उद्घाटन होगा उसकी डिटेल इस प्रकार है।

1 उनमें मौजूदा राजमार्गों का कम से कम 10 मीटर तक चौड़ीकरण होगा

2 13 बाइपास का निर्माण किया जाएगा।

3 दो सुरंगों और 25 बड़े पुलों का निर्माण भी शामिल है।

4 चारधाम राजमार्ग विकास कार्यक्रम के तहत कुल 900 किमी सड़कों का निर्माण होगा, जिनके द्वारा उत्तराखंड के पवित्र तीर्थों को जोड़ा जा सकेगा।

5 इस प्रोजेक्ट के जरिए कहीं न कहीं पीएम मोदी एक तरफ चुनावी तीर चलाना चाहते हैं तो वहीं दूसरी ओर हरीश रावत इसे अपने हाथ से निकलता हुआ एक मौका समझ रहे हैं।

6 2013 में आई आपदा ने प्रदेश की आर्थिक स्थिति को तोड़ मरोड़ कर रख दिया था। जिसको चुनाव के लिए सबसे महत्वपूर्ण मानते हुए उत्तराखंड के मुख्यमंत्री हरीश रावत ने केदारनाथ धाम को सुचारू करने के लिए दिन रात एक कर दिए थे लेकिन आखिर में ऑल वेदर रोड के प्रोजेक्ट को पीएम मोदी के द्वारा हरी झंडी मिलने से सारा किया हुआ काम सीधे तौर पर बीजेपी की झोली में आ जाएगा और 2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी को एक और उपलब्धि प्रदेश की जनता के सामने लाने का मौका मिल जाएगा।

हो रही गुटबाजी

जहां एक तरफ उत्‍तराखंड बीजेपी के लिए ये एक प्लस पॉइंट होगा वहीं दूसरी ओर कांग्रेस की आपसी गुटबंदी से परेशान सीएम हरीश रावत के लिए बैक फुट पर आने जैसा होगा।

loading...
शेयर करें