चिकित्सा विभाग के विशेष सचिव ने डॉक्टरों के प्रमाण पत्रों की जांच के दिये आदेश

लखनऊ। शिक्षा विभाग में फर्जीवाड़ा सामने आने के बाद अब सरकार ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। चिकित्सा शिक्षा विभाग भी अलर्ट हो गया है। चिकित्सा शिक्षा विभाग के विशेष सचिव ने प्रदेश के सभी चिकित्सा संस्थानों समेत सभी मेडिकल डेंटल कॉलेजों में तैनात डॉक्टरों के प्रमाण पत्रों की जांच के आदेश दिए हैं। केजीएमयू के कुलसचिव ने भी सभी विभागाध्यक्ष चिकित्सा संकाय, दंतसंकाय, नर्सिंग को प्रमाण पत्रों की जांच के आदेश जारी कर दिए हैं।

केजीएमयू में लगभग 550 चिकित्सकों के पद पर 450 की तैनाती है। लोहिया संस्थान में 200 के करीब पीजीआई में 250 के करीब संकाय सदस्य हैं। प्रमाण पत्रों की जांच के आदेश के बाद संस्थानों में हड़कंप मचा है। प्रमाण पत्रों की जांच के दायरे में सभी सरकारी मेडिकल कालेज के शिक्षक आएंगे।

इस जांच में डिग्री से लेकर अनुभव प्रमाण पत्र तक चेक किए जाएंगे। जांच में विभाग का नाम शिक्षक का नाम, वर्तमान पद नाम, मार्कशीट, सर्टिफिकेट, डिग्री, एमसीआई, डीआईसी सर्टिफिकेट, अनुभव प्रमाण पत्र, नियुक्ति पत्र, कार्यभार ग्रहण करने का सर्टिफिकेट समेत अन्य दस्तावेज तलब किए गए हैं।

Related Articles