चीन के खिलाफ भारत के समर्थन में खुलकर सामने आए डोनाल्ड ट्रंप और कही ये… बड़ी बात

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि वह भारत और चीन के लोगों के लिए शांति बनाए रखने के लिए हर संभव प्रयास करना चाहते हैं। उनके प्रवक्ता ने यह जानकारी दी है। आपको बता दें कि बीते कई हफ्तों से ट्रंप प्रशासन लगातार चीन के खिलाफ भारत के समर्थन में सामने आया है।

व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव कायले मैकनी ने गुरुवार को एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, “ट्रंप ने कहा कि मैं भारत और चीन के लोगों से प्यार करता हूं और लोगों के बीच शांति बनाए रखने के लिए हर कदम उठाना चाहता हूं।”

कायले मैकनी पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा के साथ चीन के साथ गतिरोध पर भारत के लिए ट्रंप के संदेश पर एक सवाल का जवाब दे रही थी। इससे पहले दिन में, व्हाइट हाउस के आर्थिक सलाहकार लैरी कुडलो ने भारत को एक महान सहयोगी के रूप में वर्णित किया, कहा कि राष्ट्रपति ट्रंप प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के एक अच्छे मित्र हैं।

भारत अमेरिका का बड़ा पार्टनर
बुधवार को माइक पोम्पिओ ने कहा कि भारत अमेरिका का एक बड़ा साझेदार रहा है। अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा था चीन के साथ सीमा पर टकराव समेत कई मुद्दों पर भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर के साथ उनकी अक्सर बातचीत होती रहती है। पोम्पियो ने यहां संवाददाताओं से कहा, भारत एक बड़ा साझेदार है। वे हमारे महत्वपूर्ण सहयोगी हैं। मेरे समकक्ष विदेश मंत्री के साथ मेरा बड़ा अच्छा संबंध है। विभिन्न मुद्दों पर हमारी अक्सर बातचीत होती है।

‘ट्रंप पहले अमेरिकी राष्ट्रपति जो खुलकर भारत के समर्थन में आए’
व्हाइट हाउस के बयान का स्वागत करते हुए ट्रम्प विक्ट्री भारतीय अमेरिकी वित्त समिति के सह-अध्यक्ष, अल मेसन ने कहा कि राष्ट्रपति ट्रंप भारत के समर्थन में खुलकर सामने आए हैं। उन्होंने कहा कि ज्यादातर भारतीय-अमेरिकियों ने देखा है कि पहले के राष्ट्रपति चाहे वह डेमोक्रेट या रिपब्लिकन हों, जैसे कि क्लिंटन, सीनियार और जूनियार बुश या ओबामा, भारत का खुला समर्थन करने और चीन को चोट पहुंचाने से डरते थे।

मेसन ने कहा कि कि केवल राष्ट्रपति ट्रंप ने यह कहने का साहस किया है कि मुझे भारत से प्यार है। अमेरिका भारत का सम्मान करता है। अमेरिका भारत के साथ खड़ा है। वह भी भारत में आयोजित नमस्ते ट्रंप रैली में ।

Related Articles