‘चुनाव के दौरान बजट पेश करना आचार संहिता का उल्लंघन तो नहीं’

0

मुंबई चुनाव आयोग ने पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों की तारीख का ऐलान कर दिया है। ये विधानसभा चुनाव उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, गोवा और मणिपुर में होने हैं। जिसके बाद अब चुनाव को लेकर बहस तेज़ हो गई है वहीं शिवसेना ने आपत्ति जताई है। शिवसेना का कहना है कि जाति-धर्म के आधार पर वोट मांगना गलत क्यों है।  

चुनाव आयोग

चुनाव आयोग ने किए ये बड़े ऐलान

चुनाव आयोग ने देश के पांच राज्यों में चुनाव की घोषणा के साथ यह बहस भी तेज हो गई है। शिवसेना पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे ने मुंबई में आयोजित राज्यव्यापी कार्यकर्ता सम्मलेन में अपने भाषण में कहा कि ”अगर जाति-धर्म के आधार पर वोट मांगना गलत है तो चुनाव के दौरान बजट पेश करना आचार संहिता का उल्लंघन तो नहीं? इसी वजह से मैं राष्ट्रपति से अपील करता हूं कि जब तक घोषित चुनाव के नतीजे नहीं आ जाते, इन्हें बजट के बहाने लोगों को गुमराह करने से रोका जाए।” उद्धव ठाकरे ने अपने सांसदों से कहा है कि वे अपने इस मुद्दे पर राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से जाकर मिलें।

कई पार्टियों ने किया विरोध

शिवसेना के अलावा कांग्रेस, आप और सीपीएम भी चुनाव आचार संहिता में बजट पेश किए जाने का खुलकर विरोध कर रही हैं। इन सभी पार्टीयों का आरोप है कि बजट के बहाने बड़ी घोषणाएं कर मोदी सरकार मतदाताओं प्रभावित करना चाहती है।

केंद्रीय बजट ठीक उस समय आने वाला है जब देश के 16 करोड़ लोग अपने-अपने राज्यों में वोट डालने के लिए मन बना रहे होंगे। ऐसे में बजट के लोकलुभावन वादों पर रोक लगाने को लेकर चुनाव आयोग के पास ज्ञापन आ चुके हैं। वहीं सरकार इस मुद्दे पर पीछे हटने को तैयार नहीं है।

वित्त मंत्री ने दी सफाई

मुख्य चुनाव आयुक्त नसीम ज़ैदी ने इस मुद्दे पर कहा है कि इस बाबत आयोग के पास राजनीतिक दलों की राय पहुंच चुकी है। इस पर वे विचार विमर्श के बाद फैसला करेंगे। जबकि केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने साफ तौर पर बजट को नतीजों तक टालने को खारिज करते हुए कहा कि यह हो नहीं सकता और न इससे पहले कभी हुआ है। केंद्र सरकार बजट को पहले से जल्द इसलिए करना चाहती है ताकि नियत खर्च एक अप्रैल से शुरू हो जाए।

चुनावों की तारीख हुई जारी

चुनाव आयोग के मुताबिक, पंजाब और गोवा में 4 फरवरी को मणिपुर में 4 और 8 मार्च, उत्तराखंड में 15 फरवरी और उत्तर प्रदेश में 11, 15, 19,23, 27 फरवरी और 4 और 8 मार्च को सात चरणों में मतदान होगा। वोटों की काउंटिग 11 मार्च को होगी।

 

Edited by-Mohammad Shoaib Khan

loading...
शेयर करें