‘मैं इतना मूर्ख नहीं जो प्रकाशित किताब की नकल करूंगा’

0

मुंबई| लेखक चेतन भगत का कहना है कि बेंगलुरु की लेखिका द्वारा उन पर लगाया गया साहित्यिक चोरी का आरोप निराधार है। लेखिका अन्विता बाजपेयी ने इस मामले में चेतन के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। लेखिका का आरोप है कि लेखक ने अपनी किताब ‘वन इंडियन गर्ल’ में उनकी पुस्तक ‘लाइफ, ओड्स एंड इंड्स’ के किरदारों, स्थानों व भावनाओं की नकल की है।

चेतन भगत

चेतन भगत के खिलाफ मुकदमा दायर

अन्विता ने इस मामले में कथित तौर पर बेंगलुरु की एक अदालत में चेतन के खिलाफ मुकदमा दायर किया, जिसने ‘वन इंडियन गर्ल’ की बिक्री पर अस्थाई रोक लगा दी है। मामले की अगली सुनवाई गुरुवार को होगी।

भगत ने इस मुद्दे पर कहा, “मैं इतना मूर्ख नहीं हूं जो किसी प्रकाशित किताब की नकल करूंगा। न्यायालय में अभी मेरे पक्ष की सुनवाई होनी बाकी है। यह सरासर फर्जी मामला है.. एक झूठा आरोप है। वह अदालत के ग्रीष्मावकाश पर जाने के दौरान यह मामला लेकर उसके पास पहुंचीं, जिसके कारण देरी हो रही है, लेकिन अदालत जैसे ही मेरा पक्ष सुनेगी, सच्चाई सामने आ जाएगी।”

अन्विता ने 22 फरवरी को चेतन को कानूनी नोटसि भेजते हुए उनसे ‘वन इंडियन गर्ल’ को बाजार से हटाने की मांग की और नुकसान की भरपाई के लिए 5,00,000 रुपये के भुगतान को कहा। लेखिका का कहना है कि भगत के किताब की मुख्य पात्र और उनकी (बाजपेयी) लघुकथा ‘ड्राइंग पैरालेल्स’ की कहानी के बीच समानता है।

चेतन ने हालांकि अपने बचाव में कहा कि उन्होंने अन्विता की किताब नहीं पढ़ी है और उन्होंने ओरिजिनल कहानी लिखी है।

लेखक ने कहा कि साहित्यिक चोरी एक गंभीर आरोप है और अगर उन्होंने ऐसा किया होता तो लेखिका के काम और उनके काम का स्क्रीन शॉट सभी जगहों पर सोशल मीडिया के जरिए वायरल हो चुका होता। यह आरोप निराधार है।

उन्होंने कहा, “फिल्म ‘हाफ गर्लफ्रेंड’ जल्द ही रिलीज होने जा रही है, ऐसे में वह इन सबसे परेशान हैं.. पर क्या करें?” उन्होंने कहा, “मेरी कानूनी टीम बिल्कुल इस मामले से निपटेगी और मैं जानता हूं कि मैं जीतूंगा।”

लेखक इससे पहले भी इतिहासकारों को कामों और देश में असहिष्णुता पर टिप्पणी करके आलोचनाओ और विवादों में फंस चुके हैं। वह सोशल मीडिया पर अक्सर निशाना बनाए जाते हैं।

उन्होंने जब यह घोषणा की थी कि उनके उपन्यासों में से एक दिल्ली विश्वविद्यालय में स्नातक स्तर के अंग्रेजी साहित्य के छात्रों के पाठ्यक्रम का हिस्सा होगा तो साहित्यिक विशेषज्ञों ने इसकी आलोचना की थी।

यह पूछे जाने पर क्या वह खुद को आसानी से निशाना बनाए जाने वाला शख्स मानते हैं तो चेतन ने कहा कि वह अपनी राय रखने वाले लेखक हैं। वह सभी को प्रभावित नहीं कर सकते, वह समाज में बदलाव लाना चाहते हैं और ऐसा होने पर कुछ लोग नाराज हो रहे हैं।

उन्होंने कहा कि जब तक उन्हें लगता है कि वह सही कर रहे हैं, तब तक वह अन्य लोगों की सोच की परवाह नहीं करेंगे। लेखक फिलहाल 19 मई को रिलीज होने वाली फिल्म ‘हाफ गर्लफ्रेंड’ के प्रचार में व्यस्त हैं।

loading...
शेयर करें