जंगल की आग बुझाने के लिए सरकार ने लगाए दस हजार कर्मचारी

0

जंगल की आगदेहरादून। उत्तराखंड में जंगल की आग एक बार फिर से भड़क गई है। ऐसे में सीएम हरीश रावत ने आग को बुझाने के लिए चार हजार कर्मचारियों की संख्या और बढ़ा दी है। जिसके बाद आग बुझाने के कार्य में लगे राज्य सरकार के कुल कर्मचारियों की संख्या बढ़कर 10 हजार हो गई है।

जंगल की आग बुझाने वाले कर्मचारियों को दी सलाह

सीएम हरीश रावत ने जंगलों की आग बुझाने वाले कर्मचारियों को निर्देश दिया कि आग बुझाने में कोई चूक न हो। इसके साथ वन विभाग के अफसरों को चेतावनी दी कि चौकन्ने और सतर्क रहें। जंगल की आग की घटनाओं की संख्या फिर बढ़ने के मामले में मुख्यमंत्री रावत ने वन मंत्री दिनेश अग्रवाल और शासन के आला अधिकारियों के साथ बैठक की।

उन्होंने निर्देश दिए कि जितने मैन पावर की जरूरत हो उसे बढ़ा दिया जाए। जैसे की आग की सूचना मिले उस पर फौरन काबू कर लिया जाए। अग्नि शमन के संसाधन जुटाने के लिए सरकार व्यवस्था कर रही है। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि क्षेत्रीय लोगों को आग बुझाने वाले दस्ते में भर्ती किया जाए।

सीएम रावत ने अफसरों को दी चेतावनी

सीएम हरीश वरत ने आग पर काबू पाने के लिए वन पंचायतों और क्षेत्रीय संगठनों को भी साथ रखने के लिए कहा। उन्होंने अफसरों को आगाह किया कि आग के मामले में किसी स्तर पर लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। इस मौके पर वन मंत्री दिनेश अग्रवाल ने अग्नि सुरक्षा के संबंध में केंद्र को प्रस्ताव भेजने का मसला उठाया। इस पर मुख्यमंत्री ने सहमति व्यक्त की। बैठक में मुख्य सचिव शत्रुघ्न सिंह, अपर मुख्य सचिव एस. रामास्वामी, प्रमुख वन संरक्षक उत्तराखंड राजेंद्र कुमार मौजूद रहे।

बता दें इससे पहले भी उत्तराखंड के जंगलों में आग लगी थी। जिसके बाद सेना की मदद और बारिश के चलते आग पर काबू पाया गया था। जंगल में आग लगने के सिलसिले में कई लोगों को गिरफ्तार भी किया गया था।

loading...
शेयर करें