ईद के मौके पर CRPF Camp पर हुआ पथराव, पुलिस ने पहले ही किया था आगाह

0

श्रीनगर। जम्मू एवं कश्मीर पुलिस की वे आशंकाएं सोमवार को सही साबित हुई जिसके चलते उन्होंने सुरक्षाबलों को सार्वजिक स्थान पर ईद न मनाने की सलाह दी थी। दरअसल, ईद के मौके पर अनंतनाग जिले के जंगलातमंडी इलाके में सोमवार को लोगों ने सीआरपीएफ कैंप पर पत्थरबाजी की। इसके बाद सीआरपीएफ ने पत्थरबाजों की भीड़ पर आंसू गैस के गोले छोड़े। साथ ही पत्थरबाजों ने मूसा के समर्थन में नारेबाजी भी की।

जम्मू एवं कश्मीर पुलिस

जम्मू एवं कश्मीर पुलिस ने पहले ही किया था आगाह

आपको बता दें कि पिछले काफी समय से जम्मू एवं कश्मीर में सेना आतंकियों के खिलाफ ऑल आउट ऑपेरशन चलाकर बड़ी कार्रवाई कर रही है। इस कार्रवाई में अभी तक कई आतंकी मारे जा चुके हैं। अब इसको लेकर तालिबान-ए-कश्मीर के लीडर ज़ाकिर मूसा ने बड़ा खुलासा किया है। मूसा का कहना है कि आर्मी ने पिछले 7 दिनों में जिन आतंकियों को मारा है, उनमें से अधिकतर की जानकारी खुद उसने ही सेना को दी थी।

यह भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर पुलिस ने जवानों को किया आगाह, सार्वजनिक जगहों पर न करें ईद की नमाज अदा

पिछले दिनों नौहटा में नमाज के दौरान ड्यूटी कर रहे DSP मोहम्मद अयूब पंडित की भीड़ ने पीट-पीटकर हत्या कर दी थी। जिससे माहौल को काफी बिगाड़ दिया है। भीड़ की इसी करतूत को देखते हुए बीते दिन जम्मू एवं कश्मीर पुलिस ने सभी सुरक्षाकर्मियों को परामर्श जारी किया था कि वे सार्वजनिक जगहों पर ईद की नमाज अदा करने से बचें। परामर्श में कहा गया था कि सुरक्षाकर्मी सुरक्षित जगहों पर ही ईद की नमाज अदा करें।

पुलिस की यह चेतावनी राज्य के सभी पुलिस थानों, जम्मू एवं कश्मीर पुलिस की सभी शाखाओं, सेना की 15वीं कोर, भारत-तिब्बत सीमा पुलिस, सशक्त सीमा बल (एसएसबी), केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ), सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) और केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) को भेजी गई थी। मतलब पुलिस को पहले से ही शक था कि ईद के मौके पर राज्य के अराजकतत्व किसी अप्रिय घटना को अंजाम दे सकते हैं।

loading...
शेयर करें