IPL
IPL

जम्‍मू में बदलाव की आहट, महबूबा से मिलीं सोनिया

श्रीनगर। जम्‍मू कश्‍मीर में मुख्‍यमंत्री मुफ्ती मोहम्‍मद सईद के निधन के बाद उनकी बेटी और पीडीपी नेता महबूबा मुफ्ती का मुख्‍यमंत्री बनना तय माना जा रहा था। सहयोगी पार्टी भाजपा भी इसके लिए राजी थी। लेकिन अब बदलाव की आहट आ रही है। कांग्रेस अध्‍यक्ष सोनिया गांधी ने महबूबा मुफ्ती से मुलाकात की है। इस मुलाकात के बड़े राजनीतिक मायने हो सकते हैं।

सोनिया

सोनिया पहुंची महबूबा के घर

यह मुलाकात आज दोपहर तीन बजे महबूबा के फेयरव्‍यू आवास पर हुई। सोनिया खुद यहां पहुंचीं और करीब 20 मिनट तक पीडीपी नेता महबूबा के साथ रहीं। सोनिया के साथ राज्‍यसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाब नबी आजाद, कांग्रेस महासचिव अंबिका सोनी, प्रदेश अध्‍यक्ष जीए मीर और पार्टी नेता सैफुद्दीन सोज भी थे।

पढ़ें : जम्मू-कश्मीर में मुख्‍यमंत्री बनने में देरी पर राज्यपाल शासन लागू

हालांकि कांग्रेस का कहना है कि यह कोई राजनीतिक मुलाकात नहीं थी। गुलाब नबी आजाद ने बताया कि सोनिया गांधी की यह यात्रा केवल संवेदना व्‍यक्‍त करने के लिए थी। राज्‍य के किसी राजनीतिक मुद्दे पर सवाल पूछना हो तो महबूबा मुफ्ती सही जवाब दे पाएंगी।

लेकिन राजनीतिक जानकार इस मुलाकात को इसलिए अहम मान रहे हैं क्‍योंकि साल 2002 से 2008 के बीच कांग्रेस और पीडीपी की साझेदारी में जम्‍मू की सरकार बनी थी। इसमें तीन-तीन साल के अंतराल पर दोनों दलों के मुख्‍यमंत्री रहे। 2008 में कांग्रेस और पीडीपी का साथ छूट गया था।

टाइम्‍स नाओ की खबर के मुताबिक पीडीपी ने भाजपा के सामने सरकार बनाने के लिए चार शर्तें रखी हैं। लेकिन इन शर्तों पर भाजपा का रुख अभी साफ नहीं हो पाया है।

ये हैं चार शर्तें

1-उप मुख्‍यमंत्री बीजेपी का न हो
2-पीडीपी को सरकार में बड़ी हैसियत मिले
3-गंभीर संवेदनशील मुद्दों को छोड़ा जाए
4-केन्‍द्र सरकार राज्‍य को अधिक मदद दे

इन शर्तों पर भाजपा का रुख साफ होने से पहले सोनिया-मह‍बूबा की मुलाकात के कई मायने निकाले जा रहे हैं। हालांकि केन्‍द्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने भी महबूबा से मुलाकात कर जम्‍मू में सरकार बनाने पर चर्चा की है।

इससे पहले महबूबा ने कहा था कि उनके पिता के निधन के शोक के चौथे दिन तक वह मुख्‍यमंत्री पद ग्रहण नहीं करेंगी।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button